आशा वर्कर को मानदेय न मिलने पर आशा वर्कर परेशान मजदूर नेता बोले सीएम से लगाएंगे गुहार

आशा वर्कर को मानदेय न मिलने पर आशा वर्कर परेशान मजदूर नेता बोले सीएम से लगाएंगे गुहार

पांवटा साहिब मैं मजदूर नेता प्रदीप चौहान ने प्रेस बयान जारी करते हुए कहा कि कोविड़ काल मे दिन रात सेवा करने वाली आशा वर्करों को अब अपनी मानदेय के लिए परेशानियां झेलनी पड़ रही है बीएमओ से लेकर एसडीएम व उच्च अधिकारियों को शिकायत पत्र भेजा गया है लेकिन समस्या जस की तस है ऐसे में आशा वर्करों को अपने घर का लालन-पालन करना मुश्किल हो गया है।

वही नेता प्रदीप चौहान ने कहा कि आशा वर्कर की समस्या मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू तक पहुंचाई जाएगी और उन को मानदेय देने का प्रयास किया जाएगा उन्होंने कहा कि आशा वर्कर कोविड- में बल्कि हमेशा ही बेहतरीन कार्य कर रही है ऐसे में आशा वर्कर की अनदेखी प्रशासन की लापरवाही को दर्शाता है लेकिन इनकी समस्याओं का समाधान के लिए अब वह प्रयास करेंगे।

गौरतलब है कि आशा वर्करों ने बताया कि राजपुर स्वास्थ्य खंड के अंदर 230 आशा वर्कर काम करती है और वेतन ना मिलने की वजह से उनको घर के खर्चे चलाना मुश्किल हो गया है वहीं उन्होंने बताया कि आशा वर्कर को जनवरी माह से अभी तक वेतन नहीं मिली। जब की अप्रैल माह में आशा वर्कर्स ने अपने बच्चों की एडमिशन कराने के लिए पैसे इधर-उधर से पैसे उधार लेकर बच्चों के एडमिशन कराइए कुछ आशा वर्कर ऐसी है उनके घर में कमाने वाला कोई नहीं है।

आशा वर्करों ने बताया कि घर का खर्चा चलाना मुश्किल हो गया है 4 महीने से उनको मानदेय नहीं मिला है इसके अलावा टीवी के पेशेंट और अन्य पेशेंट को जो उन्हें एक्स्ट्रा चार्ज मिलना था वह भी नहीं दिया जा रहा है इस विषय में उन्होंने BMOसे लेकर एसडीएम तक गुहार लगाई लेकिन समस्या जस की तस बनी रही अब महिलाओं ने फैसला लिया है कि महिलाएं अब सड़कों पर उतर गई है और धरना प्रदर्शन भी करेगी