एसएमसी (GIA) यूनियन हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष ने उठाए सवाल

एसएमसी (GIA) यूनियन हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष ने उठाए सवाल…

 

बोले जल्द पूरा करेगी सरकार अपना वादा 2555 अध्यापकों का सुरक्षित रखेगी भविष्य सरकार..

 

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू उप मुख्य मंत्री श्री मुकेश अग्निहोत्री, उद्योग मंत्री श्री हर्ष वर्धन चौहान तथा शिक्षा मंत्री रोहित ठाकुर से बड़ी विनम्रता पूर्वक मांग करते है की कि बीते ग्यारह वर्षों से हिमाचल प्रदेश के दूर दराज तथा जनजातीय क्षेत्रों के स्कूलों में निरंतर सेवाएं देने वाले SMC GIA अध्यापकों को नियमित करके राहत प्रदान करें ।

जैसा कि सोशल मीडिया चैनल के माध्यम से ज्ञात हुआ है कि हिमाचल सरकार दूर दराज तथा दुर्गम क्षेत्रों के स्कूलों में अध्यापकों की कमी को पूरा करने के लिए फिर से अस्थाई रूप से भर्तियां करने जा रही है, निःसंदेह यह सरकार के अधिकार क्षेत्र में हैं, इस पर हमें कोई ऐतराज नहीं है,

 

लेकिन जो अध्यापक दस से ग्यारह वर्षों से न्यूनतम मानदेय पर दुर्गम क्षेत्रों के स्कूलों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं सरकार को सर्व प्रथम उन अध्यापकों की पीड़ा को समझते हुए मानवीय दृष्टिकोण से एसएमसी अध्यापकों को मुख्यधारा में लाकर नियमितिकरण का तोहफा देना चाहिए ताकि लंबे समय से शोषण का दंश झेल रहे एसएमसी शिक्षकों के साथ न्याय हो सके।

 

हमें पूरा भरोसा है कि सरकार नई भर्ती से पहले एसएमसी अध्यापकों को स्थाई पॉलिसी बनाकर अपना वादा पूरा करेगी। एसएमसी शिक्षक अपनी मांगों को लेकर के 2500 एसएमसी अध्यापक माननीय मुख्यमंत्री उप मुख्यमंत्री, उद्योग मंत्री और शिक्षा मंत्री जी से मिलेगा।

 

हमे पूर्ण विश्वास है कि सरकार 2555 SMC अध्यापको के साथ सौतेला व्यवहार नहीं करेंगी और अस्थाई भर्तियों से पूर्व सरकार हमे नियमित करेंगी हमे विश्वास ही नहीं वल्कि पूर्ण विश्वास है की सरकार हमे नियमितिकरण का तोफा देगी और 2555 अध्यापको का भविष्य सुरक्षित करेगी।

 

बाइट सुनील शर्मा प्रदेश अध्यक्ष एसएमसी (GIA) यूनियन हिमाचल प्रदेश।