गर्मी में पानी की समस्या न हो पांवटा IPH ने बनाई कार्ययोजना

गर्मी में पानी की समस्या न हो पांवटा IPH ने बनाई कार्ययोजना

पानी की बर्बादी की तो ₹2500 का होगा फाइन अधिशासी अभियंता

गर्मी में ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को पेयजल की समस्या न हो इसे ध्यान में रखते हुए जल शक्ति विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। जिसके लिए पांवटा अधिशासी अभियंता ने अधिकारियों के साथ बैठक भी लो और कहां-कहां पानी की समस्याएं हैं उसके पूरी जानकारी लेकर दिशा निर्देश भी दिए।

अधिशासी अभियंता ने मीडिया के कैमरे ऑन होते हुए कहा कि शहर में हैंडपंपों सहित अन्य पेयजल स्त्रोतों की स्थिति की जानकारी गांव-गांव से मंगाई जा रही है। जिससे यह पता चल सकेगा कि किस गांव में गर्मी के समय पानी की समस्या हो सकती है और उसे किस प्रकार दूर कर ग्रामीणों को पेयजल मुहैय्या कराई जाए।

उन्होंने कहा कि कनिष्ठ अभियंता और सहायक अभियंता को शख्स निर्देश दिए गए हैं कि जो व्यक्ति पानी की बर्बादी कर रहा है उसे पर कार्रवाई की जाए जैसे कि लोग अपने घरों में तुलु पंप लगते हैं और अपने घरों की दीवारों की सफाई करवाते हैं या अपनी गाड़ियां होते हैं अपने खेतों की सिंचाई करते हैं उन्हें नोटिस दिया । इसके अलावा जिन ग्रामीण इलाकों में पानी की किल्लत होती है वहां की पुरानी पाइप लाइनों की मरम्मत तुरंत की जाए ताकि गांव के इलाकों में भी पानी की किल्लत न हो।

उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि पानी की बर्बादी करने वालों पर अब जल शक्ति विभाग कार्रवाई करेगा और ₹2500 का फाइन भी किया जाएगा।

बाईट जितेंद्र जल शक्ति विभाग के अधिशासी अभियंता