गिरिपार में महासू देवता का पंचमी जागरा मेला शुरु…

हरितालिका तीज में ढोल नगाड़ों के साथ देवालयों से निकाला देवता का पांइता, लोगों ने मनाई खुशी

 

गिरिपार क्षेत्र की आस्था के प्रतीक महासू देवता का पांजवी जागरा मेला सोमवार को हरितालिका तीज में देव पाईंता बाहर निकलने के बाद आरंभ हो गया है। सोमवार को उपासनी, मंगलवार को देव स्नान तथा बुधवार को ढाल दिवस रहेगा। सोमवार को क्षेत्र के कोटी, टिटियाना, कांडो च्योग, शमाहं, कोटी उतरोऊ, पश्मी, द्राबिल, मोहराड़, मशवाड़, एराना, कंडियारी, नेरा, वश्वा, नावणा, भटवाड़, ढाढस, शिल्ला, धमोंण, नघेता सहित विभिन्न देवालयों में देवता का पाईंता पूज बाहर निकली। सोमवार को हरितालिका तीज से शुरू हुए मेले में ढोल नगाड़ों के साथ देवता के चिन्हों व पालकियों को शृंगार कर देवालयों से बाहर निकाला गया।

महासू देवता के जयघोष व ढोल नगाड़े की धुनों से सारा माहौल भक्तिमय हो गया। इस दौरान देव करिंदे भंडारी, पुजारी, ठाणी, माली, दयाल, नगार्ची आदि सभी लोगों ने देवता का पाईंता बाहर निकाला। हर देवालय में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। उपस्थित सभी श्रद्धालुओं ने देवता के दर्शन कर प्रसाद ग्र्रहण किया। कोटी देवालय के भंडारी डा. हीरा सिंह नेगी, माली इंद्र सिंह राणा ने बताया कि कोटी महासू देवालय में मंगलवार को देवता के स्नान के बाद महासू सेवा समिति कोटी की ओर से विशाल भंडारे का आयोजन भी किया गया है जो पूरी रात्रि चलता रहेगा। श्रद्धालुओं के मनोरंजन के लिए महासू कल्चरल नाइट का भी आयोजन किया गया है। जौनसारी लोक संस्कृति के गायक अज्जू तोमर मंगलवार जागरण रात्रि को दर्शकों का मनोरंजन करेंगे।