गिरिपार में 16 घंटे से ब्लैक आउट, सडक़ें बंद होने से सैकड़ों गाडिय़ां फंसी

 

भू-स्खलन से गिरे कई मकान, सडक़ें बंद होने से सैकड़ों गाडिय़ां फंसी

 

 

पिछले करीब 80 घंटे से बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। चार दिनों से लगातार हो रही बारिश लोगों के लिए आफत बन गई है। सोमवार को गिरिपार क्षेत्र की 89 सडक़ें भारी भू-स्खलन के कारण बंद हो गई। लोक निर्माण विभाग ने इनमें से 25 सडक़ों पर यातायात बहाल कर दिया, मगर लगातार हो रही बारिश के कारण कई सडक़ें फिर अवरुद्ध हो रही हैं। भू-स्खलन के कारण बिजली की लाइनों पर पेड़ गिरने से क्षेत्र में बार-बार विद्युत आपूर्ति ठप हो रही है। रविवार को शाम करीब चार बजे के बाद क्षेत्र के सैकड़ों गांव में आपूर्ति ठप हो गई। पूरी रात भर सैकड़ों गांव अंधेरे में डूबे रहे। 16 घंटों के बाद सोमवार सुबह करीब आठ बजे के बाद क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति बहाल हुई। बिजली गुल होने के कारण लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। सोमवार को भारी बारिश के कारण संगड़ाह की 31 व शिलाई की 58 सडक़ें बंद हुई। लोक निर्माण विभाग ने शिलाई की 15 व संगड़ाह की 10 सडक़ों को यातायात के लिए खोल दिया, मगर लगातार हो रही बारिश के कारण खोली गई कई सडक़ें फिर से बंद हो गई। खराब मौसम के कारण लोक निर्माण विभाग को सडक़ों को खोलने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कुपवी क्षेत्र की सभी 10 सडक़ें दूसरे दिन भी बंद रही ।

 

हरिपुरधार, नौहराधार, संगड़ाह, शिलाई, रोनहाट व कुपवी क्षेत्र की करीब 80 पंचायतों का संपर्क दूसरे दिन भी शेष हिमाचल से कटा रहा। सडक़ें बंद होने के कारण सरकारी व निजी बसों के अलावा सैकड़ों छोटे-बड़े वाहन विभिन्न क्षेत्र में फंसे हुए हैं। सडक़ें बंद होने के कारण लोगों को 15 से 20 किलोमीटर का सफर पैदल चलकर तय करना पड़ रहा है। क्षेत्र में चार दिनों से हो रही भारी बारिश के कारण कई लोगों के मकान भू-स्खलन की चपेट में आने से ढह गए हैं, जबकि कई मकानों को खतरा पैदा हो गया है। लाना पंचायत की प्रधान कृष्णा देवी ने बताया कि उनकी पंचायत के कोयिला गांव की एक विधवा महिला कुंता देवी का मकान गिर गया है, जिसके कारण कुंता देवी का आठ सदस्यों का परिवार बेघर हो गया है। इस परिवार को पड़ोसी के घर में शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। डैबरधाट के समीप एक व्यक्ति के मकान के उपर बिजली का पोल गिर गया है। हालांकि विभाग ने लाइन काट दी है। इस व्यक्ति के घर के पिछले हिस्से में दरार आ गई है। नौहराधार के समीप राम गोपाल के चार मंजिला मकान के आगे की सुरक्षा दीवार गिर गई है, जिसके कारण उनके मकान के गिरने का खतरा पैदा हो गया है।