जाति पर जनगणना महा अपराध, पूर्व सीएम शांता कुमार ने पटना हाई कोर्ट के फैसले का किया स्वागत

जाति पर जनगणना महा अपराध, पूर्व सीएम शांता कुमार ने पटना हाई कोर्ट के फैसले का किया स्वागत

पटना हाईकोर्ट बधाई का पात्र है, जिसने बिहार सरकार द्वारा जाति आधारित जनगणना पर रोक लगा दी है। जाति आधारित जनगणना एक महा अपराध है। भारत में हजारों जातियां और लाखों उप-जातियां है। इसके कारण पूरा देश लाखों जातियों में बंट जाएगा। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कही। उन्होंने कहा कि 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के बाद अंग्रेज सरकार ने हमेशा के लिए भारत को गुलाम रखने के लिए दो नीतियां बनाई थी। हिंदु मुस्लमान को लड़ाना और जातियों के आधार पर समाज को बांटना । अंग्रेज सरकार ने इसी उद्देश्य से जाति आधारित जन गणना करने का निर्णय किया, परंतु महात्मा गांधी जी के नेतृत्व में पूरे देश ने उसका विरोध किया।

 

सरकार वह जनगणना नहीं करवा सकी, परंतु अंग्रेज सरकार हिंदू-मुस्लमान को बांटने में सफल हुई और 1947 को भारत का बंटवारा हुआ। लाखों लोगों का कत्लेआम हुआ और लाखों विस्थापित हुए। शांता कुमार ने कहा कि कर्नाटक कांग्रेस सरकार ने भी एक बार जाति आधारित जन गणना करवाई थी, परंतु उसका घोर विरोध होने के कारण उसके परिणाम की घोषणा न कर सकी। उन्होंने कहा कि गुलाम भारत में महात्मा गांधी से लेकर जवाहर लाल नेहरू तक के नेतृत्व में पूरा देश जाति आधारित जनगणना का विरोध करता सर्मथन कर रही है। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता डा. अंबेडकर ने संविधान सभा में एक ऐतिहासिक भाषण में कहा था ‘भारत में जाति प्रथा राष्ट्र विरोधी है इससे परस्पर द्वेष पैदा होता है।