जिला सिरमौर में खाद नहीं पहुंचने से किसान परेशान

रोनहाट, हलाहं, नैनीधार, शिलाई, टिंबी, कफोटा, जाखना सहित क्षेत्रों में खाद की किल्लत….

 

जिला सिरमौर सहित शिलाई विधानसभा क्षेत्र में यूरिया व 12:32:16 खाद की सप्लाई खत्म होने पर क्षेत्र के सैकड़ों किसान परेशानियों का सामना कर रहे हैं। मजबूरी में किसान उत्तराखंड से ब्लैक में खाद खरीदने को मजबूर हैं। यहां हिमफेड द्वारा सप्लाई नहीं पहुंचाई जाने के चलते इन दोनों तरह की खादों की किल्लत हो गई है आए दिनों किसान खाद खरीदने के लिए डिपो में पहुंचते हैं, लेकिन खाद न होने से उन्हें बैरंग घर लौटना पड़ता है। क्षेत्र के रोनहाट, हलाहं, नैनीधार, शिलाई, टिंबी, कफोटा, जाखना सहित खाद की किल्लत झेल रहे क्षेत्र के किसान जीत सिंह, रमेश, नारायण सिंह, दया राम, बलबीर सिंह, बीर सिंह, राजेंद्र शर्मा, पंकज, कंवर सिंह, भवान सिंह, सूरत राम, कुंदन सिंह, पवन सहित सैकड़ों किसानों का कहना है कि इन दिनों मक्की के लिए यूरिया तथा टमाटर व अन्य बरसाती सब्जियों गोभी, भिंडी, मूली, फ्रांसबीन सहित कई सब्जियों की रोपाई से पहले 12:32:16 खाद की जरूरत होती है।

 

लेकिन डिपुओं में सप्लाई करने वाली हिमफेड खाद नहीं भिजवा पा रही है। बीते 15 दिनों से यहां खाद के सरकारी व निजी डिपो खाली होने से किसानों में दोनों खाद के लिए हाहाकार मचा हुआ है। सूत्र यह भी बताते हैं कि किसान 330 रुपए वाला यूरिया खाद का बैग ब्लैक में 550 रुपए तथा 12:32:16 खाद 50 से 60 रुपए प्रतिकिलो खरीदने को विवश हैं। किसानों का कहना है कि ब्लैक में खाद खरीदना उनकी मजबूरी है। यदि उन्होंने फसलों में समय पर खाद नहीं डाली तो फसल बर्बाद हो जाएगी, जिससे उन्हें भारी नुकसान होगा। उधर, उर्वरक की सप्लाई करने वाले हिमफेड के जिला प्रभारी मदन ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि खाद चंडीगढ़ से भेज दी गई है। उन्होंने बताया कि मार्ग बंद होने की वजह से शिलाई की सप्लाई बाया उत्तराखंड भेजी जा रही है। उम्मीद है कि दो दिनों के भीतर खाद पहुंच जाएगी। किसानों को खाद की कमी नहीं आने दी जाएगी।