डेढ़ साल के मासूम अभिक के लिए रोटरी क्लब बना फरिश्ता… फोर्टिस अस्पताल चंडीगढ़ में सफल ओपन हार्ट सर्जरी

अगर दिल में किसी की मदद करने की इच्छा हो तो भगवान भी साथ देता है। यह बात समाज सेवा में अग्रणी रोटरी क्लब पांवटा साहिब की मानवता और निष्काम सेवा की है। जिसकी वजह से पांवटा के डेढ़ वर्षीय अभिक को नया जीवन मिला है। बता दें कि यहां रोटरी क्लब पांवटा साहिब के पूर्व में अध्यक्ष रहे राकेश रहल डेढ़ साल के बच्चे अभिक के लिए फरिश्ता बन कर सामने आए। दरअसलए बच्चे के दिल में छेद था। परिवार निर्धन होने के कारण उपचार करवाने में असमर्थ था। रोटरी क्लब चंडीगढ़ के माध्यम से बच्चे का ऑपरेशन फोर्टिस अस्पताल चंडीगढ़ में हुआ। डेढ़ साल के अभिक पुत्र जगपाल सिंह निवासी कांटी मशवा के परिजनों ने उसका उपचार पहले मेडिकल कॉलेज नाहन, आईजीएमसी शिमला व पीजीआई चंडीगढ़ के अस्पतालों में करवाया। लेकिन बच्चे के दिल का ऑपरेशन होना था। चिकित्सकों ने ऑप्रेशन का खर्च 6 से 7 लाख रुपए बताया था। बच्चे के पिता जगपाल सिंह दिहाड़ी मजदूरी करके परिवार का पालन पोषण करता है। बच्चे और अभिभावकों की पीड़ा को मीडिया ने प्रमुखता से उठाया।

 

राकेश रहल बच्चे के परिजनों से मिले तथा बच्चे का उपचार करवाने का आश्वासन दिया। राकेश रहल ने रोटरी हार्ट लाइन सर्जरी प्रोजेक्ट चंडीगढ़ के चेयरमैन एपी सिंह से बात कर बच्चे की बीमारी के बारे में बताया। रोटरी हार्ट लाइन सर्जरी प्रोजेक्ट चंडीगढ़ के चेयरमैन एपी सिंह ने बच्चे के ऑप्रेशन के लिए हामी भरी तथा 5 अप्रैल को बच्चे को चंडीगढ़ बुलाया। एपी सिंह ने तुरंत बच्चे के उपचार शुरू करने के लिए फोर्टिस अस्पताल मोहाली के प्रबंधन को पत्र लिखा। 27 सितंबर को फोर्टिस अस्पताल मोहाली के वरिष्ठ डॉक्टर टीएस महंत की टीम ने पांच घंटे में अभिक का सफल ओपन हार्ट सर्जरी की। ऑपरेशन होने के बाद बच्चा एक सप्ताह तक अस्पताल में भर्ती रहा। 4 अक्तूबर को बच्चे को अस्पताल से छुट्टी मिल गई। ऑपरेशन का सारा खर्चा रोटरी क्लब ने उठाया। अभिक के पिता जगपाल सिंह व माता उमा देवी ने रोटरी क्लब सहित संजय कंवर व सहयोग करने वाले सभी लोगों का आभार प्रकट किया है।