पांवटा साहिब में यमुना पुल पर रात से सुबह तक लग रही टिप्परों की लंबी कतारें

पांवटा साहिब में यमुना पुल पर रात से सुबह तक टिप्परों द्वारा जाम लगने से पुल के अस्तित्त्व पर ही खतरा हो गया है। गोबिंदघाट बैरियर के साथ लगते यमुना पुल पर रात और सुबह लग रहे टिप्परों के जाम से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सुबह व शाम को यमुना पुल पर टिप्परों के खड़े रहने से जाम लगने पर वाहन चालकों को काफी देर नाके पर जाम में ही फंसे रहना पड़ता है। जिसके चलते यमुना पुल से लेकर कुल्हाल तक वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें लग जाती हैं। इसके अलावा पुल पर भारी वाहनों के खड़े रहने से पुल के वजूद को भी खतरा है, क्योंकि पुल की हालत पहले से ही खराब है जिसका काम अभी एनएच विभाग द्वारा किया जाना है।

हर दिन रात से लेकर सुबह तक टिप्पर यमुना पुल के उपर लाइन लगाकर खड़े हो जाते हैं जिससे पांवटा के विश्वकर्मा चौंक तक जाम जैसी स्थिति बन जाती है। जानकारी के अनुसार टिप्पर जब पांवटा से क्रशर की बजरी लेकर उत्तराखंड की ओर जाते हैं तो वन विभाग द्वारा टैक्स लिया जाता है जिसको लेकर भी वहां जाम लग जाता है। बता दें कि हिमाचल-उत्तराखंड को जोड़ने वाले यमुना पुल का वजूद पहले ही खतरे में है ऐसे में इस पुल पर ओवरलोड वाहन खड़े रहते हैं। बैरियर पर टोल की पर्ची काट रहे ठेकेदार ने पर्ची काटने के लिए एक-दो कर्मी लगाए हुए हैं जो ज्यादा कारगर साबित नहीं हो रहा है। नेशनल हाई-वे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मुताबिक राष्ट्रीय राजमार्ग पर बने टोल बैरियर पर यदि आपको तीन मिनट से अधिक लाइन में इंतजार करना पड़े तो आपको टोल फीस अदा करने की आवश्यकता नहीं है। उधर, इस संबंध में डीएसपी पांवटा मानवेंद्र ठाकुर ने बताया कि उत्तराखंड सीमा पर वन विभाग द्वारा टैक्स लिया जाता है जिसके कारण पुल पर जाम लगता है। उन्होंने कहा कि जाम की स्थिति को ठीक करने के लिए वह उत्तराखंड के पुलिस प्रशासन से बात करेंगे तथा जल्द ही जाम न लगे इसका हल निकाला जाएगा।