बारिश गई आफत छोड़ गई

उद्योग मंत्री के पंचायत में बारिश का कहर
10 दिनों से शिलाई विधानसभा क्षेत्र में लोग मूलभूत सुविधा को तरसे
उद्योग मंत्री और बलदेव तोमर को जनता की कोई फिक्र नहीं बोले ग्रामीण
बारिश का तांडव बारिश कम होते ही आफत शुरू , गाड़ी दसी मलबे में, खेत खलियान तबाह,किसान परेशान ,सरकार और प्रशासन से लगाई गुहार ,बोले जल्द इस नर्क से मिले समाधान।
जोरदार बारिश से उद्योग मंत्री हर्षवर्धन चौहान के पंचायत में बारिश का कहर ने लोगों को डरा कर रख दिया है दरअसल सड़क के समीप जोरदार भूस्खलन होने से खेती तबाह हुई सड़क का नामोनिशान खत्म रहुआ साथ में खड़ी गाड़ियां भी मलबे के ढेर में धस गई जिसके चलते अब लोगों में दहशत मच गई है।
जानकारी मुताबिक लोगों ने बताया बारिश चले गई और आफत छोड़ गई सिरमौर जिले के पहाड़ी इलाकों में बारिश का कहर ने जहां किसानों को रुला कर रख दिया है टमाटर की फसल खेतों में सड़ चुकी है अब खेती भी तबाह होना शुरू हो गया है।
 किसानों ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि सिरमौर जिले मैं बारिश का कहर लोगों के लिए आफत बन गया है सच कहें तो नेशनल हाईवे 707 दस दिनों से बंद है इसके अलावा लोगों को स्वास्थ्य सुविधा के लिए भी दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है क्षेत्र के दोनों दलों के नेता को कोई परवाह नहीं है उद्योग मंत्री हर्षवर्धन चौहान के अपनी पंचायत में हालात बद से बदतर हो गए हैं तो ही भाजपा के प्रत्याशी बलदेव तोमर की बात करें तो वह भी अपने घरों में चुपचाप बैठे हैं ना तो विपक्ष की भूमिका निभा पा रहे हैं और ना ही लोगों की तकलीफ समझ पा रहे हैं।
 ऐसे में शिलाई विधानसभा क्षेत्र के लोग पिछले 10 दिनों से घुट घुट के जीने को मजबूर है हालात बद से बदतर है किसान बागवान परेशान ,ट्रक ऑपरेटर को लाखों की चपत लग चुकी है, बस ऑपरेटर परेशान, नेशनल हाईवे बंद होने से अधिकांश दफ्तर बंद हो गए हैं ऐसे में शिलाई का विकास बिल्कुल ठप हो गया है।
वही समाज सेविक नाथूराम चौहान ने बताया कि शिलाई विधानसभा क्षेत्र के लोग घुट घुट के जीने को मजबूर है दोनों दलों के नेता सिर्फ अपनी राजनीतिक रोटियां सेक रहे हैं जनता की उन्हें कोई परवाह नहीं है हर्षवर्धन चौहान सीएम के काफी करीबी है लेकिन एक दौरा अपने विधानसभा का नहीं करा पाए वही बलदेव तोमर की बात करें तो एक बार कच्ची ढांग तक आए और फोटो खींचा कर वापस चले गए दोनों नेता सिर्फ फोटो की राजनीति कर रहे हैं इसके अलावा विकास ना तो कभी किया है ना करेंगे जिसके खामियाजा आज यहां के लोग भुगत रहे हैं।