शहरों के बाद अब ग्रामीण इलाकों में भी तेंदुए की दहशत शहरों के

शहरों के बाद अब ग्रामीण इलाकों में भी तेंदुए की दहशत शहरों के

 

पड़दूनी गांव में आया तेंदुआ, दहशत में ग्रामीण…..

 

उपमंडल पांवटा साहिब के पड़दूनी में लोगों के घरों तक तेंदुआ पहुंचा है। जिस कारण ग्रामीण दहशत में है। दरअसल पिछले 7 दिनों से पावटा शहर के दो जगह पर पहले भी तेंदुआ नजर आ चुका है ऐसे में बार-बार तेंदुआ नजर आने से लोगों को मैं अब बड़ा हड़कंप मचा हुआ है

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार पांवटा साहिब के पड़दूनी में लोगों ने घर के बाहर अपने पशुओं को बांधे रखा हुआ था। वही पास लगते जंगल से तेंदुआ गांव में आ गया तथा घर के बाहर बांधे पशुओं के समीप पहुंच गया तेंदुआ को देख गांव के लोग मौके पर पहुंचे और जोर जोर से चिल्लाने लगे।

 

काफी देर बाद तेंदुआ गांव से जंगल की तरफ भाग गया। तेंदुए के गांव में घूमने से ग्रामीण दहशत में हैं।

 

उधर वन विभाग गिरीनगर के रेंज अधिकारी देवेन्द्र सिंह ने बताया की अभी तक ऐसी कोई सूचना नहीं मिली है। अगर ऐसा है तो मौके पर वन विभाग की टीम को भेजा जायेगा।

 

आपको बता दें कि कुछ सप्ताह पहले पांवटा साहिब के बेहद नजदीक एक टाइगर के फुटप्रिंट मिले थे वाइल्डलाइफ के अधिकारियों द्वारा फुटप्रिंट उठाई भी गए थे दरअसल हरिद्वार क्षेत्र राजाजी नेशनल पार्क टाइगर्स रिजर्व फॉरेस्ट बनाया गया है इसलिए संभव है कि वहां से कोई टाइगर इस और चला आया हो बता देंगे एक टाइगर की सीमा 100 से 200 किलोमीटर तक हो सकती है यह अपने क्षेत्र में लगातार घूमते रहते हैं।

 

हालांकि ऐसा कहा जाता है कि टाइगर बेहद शर्मीला जानवर होता है यह बहुत कम दिखाई देता है लेकिन यह बेहद चालाक और खतरनाक भी होता है इसका एक ही वार किसी की जान लेने के लिए काफी होता है टाइगर का वजन तकरीबन 200 से ढाई सौ किलो तक हो सकता है इसकी एक छलांग 5 से 7 मीटर तक हो सकती है।

वही इस बारे में जब आई एफ एस (IFS) सौरभ से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कोई भी टाइगर इंसानों के नजदीक नहीं जाता सिर्फ मैन इटर ही बस्तियों के नजदीक जा सकता है उन्होंने कहा कि जो 3 सेकंड की वीडियो है ऐसा लगता है कि यह टाइगर ही है लेकिन अभी यह कंफर्म नहीं है कि यह वीडियो कहां की है। फॉरेस्ट अधिकारी ने कहा कि लोग घबराए नहीं दहशत ना फैलाएं हमारी पूरी नजर इस पूरे इलाके पर है