सतौन पंचायत की 5,000 की आबादी को पेयजल नहीं

पेयजल नहीं होने से लोग झेल रहे परेशानी

 

जलशक्ति विभाग की सुस्त कार्यप्रणाली का खामियाजा सतौन पंचायत के लोगों को झेलना पड़ रहा है। बीते डेढ़ महीने से पंचायत की 5,000 की आबादी पेयजल किल्लत से जूझ रही है। जबकि विभाग अभी तक क्षतिग्रस्त पेयजल लाइन को ठीक नहीं करवा पाया है। इसके चलते लोगों में विभाग के प्रति रोष हैं।

 

जलशक्ति विभाग के कफोटा उपमंडल के अंतर्गत आने वाली सतौन पंचायत को पेयजल आपूर्ति करने वाली पाइप लाइन भारी बरसात से डेढ़ महीने पहले टूट गई थी जिसकी मरम्मत अभी तक नहीं हो पाई है। बरसाती चश्मे से पानी की सप्लाई जोड़कर विभाग ने वैकल्पिक व्यवस्था तो बनाई है लेकिन बरसात न होने से यह स्रोत सूख जाता है।

अब सतौन में पानी की किल्लत शुरू हो चुकी है। सतौन पंचायत के पूर्व प्रधान रजनीश चौहान, सतीश शर्मा, प्रेम तोमर, नरेश, पिंकू, संजय, जगदीश शर्मा आदि ने बताया कि ग्रामीणों का विभाग के प्रति भारी रोष है। विभाग की लचर कार्यप्रणाली के चलते सतौन पंचायत की 5,000 की आबादी पीने के पानी की समस्या से जूझ रही है।

 

ग्रामीणों ने बताया कि विभाग ने तीन अगस्त को पंचायत घर में बैठक के दौरान विभाग के सहायक अभियंता ने शिव मंदिर से स्टोर टैंक तक नई पाइप लाइन बिछाने के लिए दो दिन का समय मांगा था लेकिन आज तक वैकल्पिक पाइप लाइन नहीं जुड़ पाई। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही पाइप लाइन की मरम्मत नहीं की गई तो पंचायत के माध्यम से अधिकारियों को शिकायत मुख्यमंत्री से की जाएगी।

जलशक्ति विभाग उपमंडल कफोटा के सहायक अभियंता वीरेंद्र शर्मा ने कहा कि विद्युत बोर्ड से उन्हें बिजली का कनेक्शन नहीं मिल पाया। इसके चलते लाइन नहीं जोड़ी जा सकी। जल्द ही लाइन की मरम्मत करवाकर लोगों को सुचारू पेयजल आपूर्ति मुहैया करवाई जाएगी।