सिरमौर से एक लाख क्विंटल गन्ना खरीदेदी डोईवाला शुगर मिल,Paonta दून क्षेत्र में 800 हेक्टेयर पर हो रही गन्ने की पैदावार।

सिरमौर से एक लाख क्विंटल गन्ना खरीदेदी डोईवाला शुगर मिल

Paonta दून क्षेत्र में 800 हेक्टेयर पर हो रही गन्ने की पैदावार

देवभूमि उत्तराखंड की डोईवाला शुगर मिल पांवटा साहिब क्षेत्र से एक लाख क्विंटल गन्ना खरीदेगी। इसे लेकर स्थानीय सोसायटियों की उत्तराखंड मिल प्रबंधन से बैठक हो चुकी है, जिसमें शुगर कैन ग्रोवर सोसायटी बद्रीपुर और शाकुंभरी सोसायटी खोड़ोवाला ने इस बार चार भार तोल कांटे स्थापित करने की मांग रखी है। पिछले वर्ष सिरमौर में दो तोल कांटे स्थापित होने से महज 69,700 क्विंटल गन्ना ही शुगर मिल भेजा जा सका था।

सोमवार मिली जानकारी मुताबिक पांवटा साहिब दून क्षेत्र में 800 हेक्टेयर से अधिक भूमि पर गन्ना फसल का उत्पादन होता है। दून क्षेत्र में करीब 900 से 1000 छोटे बड़े किसान गन्ने की खेती से जुड़े हैं। क्षेत्र में चार लाख क्विंटल से अधिक गन्ने का उत्पादन होता आ रहा है। इस साल डोईवाला शुगर मिल ने पांवटा साहिब से एक लाख क्विंटल गन्ना खरीदने का लक्ष्य रखा है।

स्थानीय गन्ना उत्पादक किसानों बलविंद्र सिंह, हरभजन सिंह, अर्जुन सिंह, सुरजीत सिंह, ओम प्रकाश और मंजीत सिंह ने बताया कि पिछले वर्ष मात्र दो ही खरीद केंद्र-तोल कांटे शुगर मिल ने स्थापित किए थे। अक्तूबर माह 2022 में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने चार गन्ना तोल-खरीद केंद्र स्थापित करने का आश्वासन दिया था लेकिन दो ही तोल कांटे बद्रीपुर व पुरुवाला केंद्र स्थापित हो सके।

पांवटा साहिब के किसान हर वर्ष शुगर कैन ग्रोवर सोसायटी बद्रीपुर और शाकुंभरी सोसायटी खोड़ोंवाला के माध्यम से उत्तराखंड शुगर मिल को आपूर्ति करते रहे हैं। किसानों ने बताया कि पिछले वर्ष किसानों से 355 रुपये प्रति क्विंटल गन्ना फसल खरीद की गई थी।

पांवटा वैली गन्ना शुगर कैन ग्रोवर सोसायटी बद्रीपुर के सचिव नेक राम और शाकुंभरी सोसायटी खोड़ोंवाला सचिव दलीप सिंह ने बताया कि उत्तराखंड शुगर मिल प्रबंधन से एक बैठक हो चुकी है, जिसमें पांवटा साहिब दून क्षेत्र को एक लाख क्विंटल गन्ना खरीद लक्ष्य मिला है। सोसायटियों की तरफ से इस बार चार गन्ना भार तोल खरीद केंद्र स्थापित करने का आग्रह किया गया है।

शुगर मिल डोईवाला उत्तराखंड की ओर से 20 नवंबर के बाद गन्ने की खरीद शुरू हो सकती है। इससे पहले गन्ने के दाम भी निर्धारित किए जाएंगे