सूझबूझ से 108 में फिर सफल डिलीवरी जच्चा बच्चा स्वस्थ

सूझबूझ से 108 में फिर सफल डिलीवरी जच्चा बच्चा स्वस्थ

देर रात 108 एंबुलेंस में गूंजी किलकारी

 

आपात सेवा 108 नंबर एंबुलेंस एक बार फिर वरदान साबित हुई है। दरअसल एक महिला अस्पताल ले जाते समय खोरडोवाला के पास 108 नंबर एंबुलेंस के कर्मियों ने एंबुलेंस में ही सुरक्षित प्रसव करा जच्चा-बच्चा की जान बचाई। इसके बाद जच्चा-बच्चा को पांवटा अस्पताल में भर्ती कराया जहां दोनों स्वस्थ हैं।

जानकारी मुताबिक 22 वर्षीय राधा पत्नी सुनील मानपुर देवड़ा देर रात प्रसव पीड़ा हुई। परिजनों ने फोन से इसकी सूचना आशा कार्यकर्ता को दी। आशा कार्यकर्ता ने बताया कि गर्भवती के परिजनों ने जैसे ही उन्हें सूचना दी, उन्होंने एंबुलेंस को सूचित किया। सूचना के तुरंत बाद एंबुलेंस आ गई। उसमे इमरजेंसी मेडिकल टेक्निशियन (ईएमटी) वीरेंद्र परमार और पायलट सुनील शर्मा तैनात थे। इमरजेंसी मेडिकल टेक्निशियन (ईएमटी) वीरेंद्र परमार ने बताया कि एंबुलेंस के महिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही खोरडोवाला के पास गर्भवती की प्रसव पीड़ा बढ़ गई। गर्भवती की स्थिति बिगड़ने लगी तो ईएमटी ने एंबुलेंस को रोककर और पायलट सुनील शर्मा की मदद से सुरक्षित प्रसव कराया।

वहीं महिला के पति ने बताया कि ने बताया कि एंबुलेंस टीम की मदद और सूझबूझ से सुरक्षित प्रसव संभव हो पाया। फिलहाल जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।

10 महिलाओं का हुआ सुरक्षित प्रसव

एंबुलेंस सेवा के वरिष्ठ लोगों से बातचीत कर उन्होंने बताया कि 2 साल में 15 महिलाओं का सुरक्षित प्रसव ईएमटी,और पायलट ने सूझबूझ का परिचय देते हुए एंबुलेंस में कराया है। सभी जच्चा-बच्चा स्वस्थ हैं। उन्होंने बताया कि एंबुलेंस में ड्यूटी करने वाले ईएमटी को समय-समय पर प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्हें सिखाया जाता है कि विषम परिस्थितियों का सामना वह कैसे करें तथा ऐसी परिस्थितियों से डरे नहीं बल्कि विश्वास के साथ उनका सामना करें ताकि मरीज की पूरी मदद कर पाएं।