अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय विधि विभाग इकाई ने विधि विभाग अध्यक्ष को सौम्पा ज्ञापन*

 

*अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय विधि विभाग इकाई ने विधि विभाग अध्यक्ष को सौम्पा ज्ञापन*

*छात्रों को पुनः मध्यअवधि परीक्षाएं देने का पुनः मौका देने की उठाई मांग*

*विधि विभाग पुस्तकालय एवं कक्षाओं में सेंट्रल हीटिंग सिस्टम की व्यवस्था करने की उठाई मांग*

_

 

 

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय विधि विभाग इकाई द्वारा आज विभिन्न छात्र मांगों को लेकर विभाग अध्यक्ष को ज्ञापन सौम्पा | विद्यार्थी परिषद ने इस ज्ञापन के माध्यम से मांग उठाई कि छात्रों से इन विभिन्न मांगों का जल्द से जल्द समाधान किया जाए |

इकाई अध्यक्ष सचिन राणा ने छात्र मांगो पर विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि विधि विभाग के बहुत से छात्र किसी कारणवश अपने मध्यअवधि परीक्षाएं नहीं दे पाए हैं तो उन सभी छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें उनके पिछले एवं इस सत्र की पुनः मध्यअवधि परीक्षाएं देने का मौका प्रदान किया जाए | अपनी दूसरी मांग को लेकर सचिन राणा ने कहा कि विधि विभाग के पुस्तकालय एवं कक्षाओं में सेंट्रल हीटिंग सिस्टम की व्यवस्था की जाए | उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के प्रमुख पुस्तकालय में भी हीटर की व्यवस्था हो चुकी है लेकिन अभी तक विधि विभाग के पुस्तकालय एवं कक्षाओं में हीटिंग सिस्टम की व्यवस्था नहीं हुई है | उन्होंने कहा कि विवि में आजकल परीक्षाओं का दौर चला है | छात्र अपनी परीक्षाओं के साथ साथ अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं की भी तैयारी कर रहे हैं | सर्दी के मौसम में पुस्तकालय में बैठना छात्रों के लिए मुश्किल हो रहा है | उन्होंने कहा कि छात्रों को पेश आ रही इस समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए |

इकाई अध्यक्ष सचिन राणा ने विभाग अध्यक्ष से आग्रह करते हुए कहा कि छात्रों से सम्बंधित इन मांगों का जल्द से जल्द समाधान किया जाए | उन्होंने चेतावनी देते हुए भी कहा कि अगर जल्द से जल्द इन मांगों का समाधान नहीं किया गया तो आने वाले समय में विद्यार्थी परिषद आंदोलन करेगी जिसके लिए पूर्णतः प्रशासन जिम्मेदार रहेगा |

Old news

*Students’ Federation Of India (SFI)*
*Himachal Pradesh University*

आज एसएफआई विश्वविद्यालय इकाई ने विश्वविद्यालय में एबीवीपी द्वारा SFI के छात्रों पर किए पथराव व तेजधार हथियारों से हमले के विरोध में धरना प्रदर्शन किया।
हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला में छात्रों के गलत रिज़ल्ट और ERP सिस्टम के खिलाफ एसएफआई द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन को खत्म करने के लिए ABVP के गुंडों द्वारा एसएफआई के साथियों पर सुनियोजित तरीके से हमला किया गया है। पिछले तीन चार दिनों से लगातार विश्वविद्यालय का माहौल खराब करने की साजिश एबीवीपी के द्वारा रची जा रही थी।

 

 

आज सुबह जब एसएफआई विश्वविद्यालय के गेट पर खड़ी थी तो एबीवीपी के छात्रों द्वारा बैग में पत्थर भर के एसएफआई के छात्रों के साथ-साथ आम छात्रों तथा पुलिस के जवानों पर पथराव किया गया । एबीवीपी द्वारा छात्रों पर तेजधार हथियारों से हमला भी किया गया है जिसमे कई छात्रों को चोट लगी है। इतना कुछ हो जाने के बाद भी अभी तक एबीवीपी पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है जिसके चलते आज एसएसआई ने कैंपस के अंदर धरना प्रदर्शन किया है।

 

 

इस धरना प्रदर्शन में बात रखते हुए एसएफआई सचिवालय सदस्य कॉमरेड सन्नी सेकटा ने कहा कि जबसे विश्वविद्यालय के अंदर एसएफआई ने छात्रों के आंदोलन को आगे बढ़ाया है और उनके मुद्दों को लड़ा है तब ABVP के लोगों ने इन आंदोलनों को कुचलने के लिए कैंपस के अंदर लड़ाई का माहौल बनाया है,

 

 

लेकिन इससे यह आंदोलन रुकने वाला नहीं है। एसएफआई एक ऐसा जनवादी, प्रगतिशील व वैज्ञानिक छात्र संगठन है जो हमेशा छात्रों के मुद्दों को प्रमुखता से उठाता है। ABVP का गठन ही छात्रों को गुमराह करने के लिए हुआ है। यह हमेशा छात्रों के वास्तविक मुद्दों से ध्यान भटकाने का काम करते है। यह सरकार की सभी नीतियों का स्वागत करने और उनकी कठपुतली बनने के अलावा कुछ न करते है। इनकी इस कायराना हरकत ने उनकी वास्तविकता एक बार फिर छात्रों के सामने ला दी है।

 

 

इस धरने में आगे बात रखते हुए राज्य कमेटी सदस्य कॉमरेड ओमी नेगी ने कहा कि ERP के खामियों के चलते छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अभी विश्वविद्यालय प्रशासन ने विधि विभाग का रिजल्ट घोषित किया है जिसके अंदर फिर से काफी खामियां देखने को मिली है। एसएफआई मांग कर रही है कि बार-बार जिस तरह खामियां इस ERP के अंदर देखने को मिल रही है इस सिस्टम को विश्वविद्यालय से निकाल देना चाहिए।

 

 

एसएफआई ने चेतावनी देते हुए कहा है कि एसएफआई बार-बार मांग कर रही है कि इस सिस्टम को या तो सुदृढ़ किया जाए नहीं तो इस सिस्टम को विश्वविद्यालय से निकाल दिया जाए।

 

 

कॉमरेड ओमी नेगी ने बताया कि एसएफआई पूरे प्रदेश में लगातार छात्र मुद्दों के लिए लगातार आंदोलन कर रही है जिससे प्रदेश में नए नए छात्र भारी संख्या में एसएफआई के साथ जुड़ रहे है। प्रदेश में एसएफआई का बढ़ता जनाधार देख कर इस सरकारी संगठन एबीवीपी को मिर्ची लग रही है और छात्र आंदोलन से छात्रों का ध्यान भटकाने के लिए यह विश्वविद्यालय में सुनियोजित तरीके से माहोल खराब करने का काम कर रहे है। जिन बैग में किताबे होनी चाहिए उन बैगों में यह बड़े बड़े पत्थर छात्रों को मारने के लिए ला रहे है। एसएफआई के छात्रों को अकेले अकेले निशाना बनाया जा रहा है। एसएफआई ने प्रशासन से एबीवीपी के इन गुंडों पर रोक लगाने की मांग की है।

 

 

एसएफआई परिसर सचिव कॉमरेड सुरजीत ने बताया कि लड़ाई का माहोल बना कर छात्रों को उनकी मूलभूत सुविधाओं की मांग से ध्यान भटकाने की इनकी साजिश कभी सफल नहीं हो पाएगी।
एसएफआई हर परिस्थिति में छात्र मुद्दों के लिए आंदोलन जारी रखेगी।

 

एसएफआई विश्वविद्यालय अध्यक्ष कॉमरेड हरीश ने प्रशासन को चेतावनी देते हुए बताया कि यदि एबीवीपी की इस गुंडागर्दी के खिलाफ प्रशासन कोई कार्यवाही नहीं करता है तो एसएफआई आने वाले समय के अंदर छात्रों को एकजुट करते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन का घेराव करेगी जिसका जिम्मेदार खुद विश्वविद्यालय प्रशासन होगा।

 

 

इसके साथ हमारा प्रदेश के सभी छात्र समुदाय से आग्रह है कि इन सरकारी संगठनों जो छात्रों को उनकी समस्या के समाधान की जगह उनका ध्यान भटकाकर छात्रों को गुमराह करने का काम करते हैं, इनसे पर्याप्त दूरी बनाएं तथा खराब रिजल्ट व ERP सिस्टम के खिलाफ आंदोलन में एसएफआई का सहयोग करें।
एसएफआई हमेशा छात्र विरोधी नीतियों के खिलाफ संघर्ष जारी रखेगी।