ZEON life कंपनी के खिलाफ सीएम को होगी शिकायत प्रदीप चौहान

ZEON life कंपनी के खिलाफ सीएम को होगी शिकायत प्रदीप चौहान

 

कांग्रेस नेता प्रदीप चौहान ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि रामपुर घाट में रहने वाले कई लोगों द्वारा उन्हें कई बार उन्हें कहीं बाहर सूचना दी गई है कि ZEON लाइफ साइंस कंपनी की लापरवाही और दूषित पानी की वजह से लोगों को रोजाना परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है और पोलूशन विभाग को शिकायत देने के बावजूद भी समस्या जस की तस बनी हुई है

वही प्रदीप चौहान ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि अधिकारियों की पहले से ही कंपनियों संचालकों के साथ आपसी तालमेल होने की वजह से पिछले 5 वर्षों से लगातार लोग परेशानियों का सामना कर रहे हैं लेकिन अब हिमाचल में ईमानदार सरकार बन गई है अब किसी भी सूरत पर अधिकारियों को बख्शा नहीं जाएगा और उनकी शिकायत सीएम सहित उद्योग मंत्री तक की जाएगी पिछले 5 वर्षों में क्षेत्र की उद्योगों से लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही थी उन्होंने कहा कि इस बार अबे चुप नहीं बैठेंगे और नियमों का उल्लंघन कर रही कंपनियों के खिलाफ लगातार शिकायतें तक पहुंचाते रहेंगे

वही हमारी टीम ने पोलूशन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी पवन शर्मा से बातचीत की तो उन्होंने कहा कि इस मामले में उन्होंने जांच की थी पर मौके पर कोई दूषित पानी नहीं मिला

 

ऐसे में या तो ग्रामीणों द्वारा दी गई शिकायत झूठी है या फिर अधिकारी कंपनियों की भाषा बोल रहे हैं खैर इस मामले में अब कांग्रेस नेता ने सीएम से लेकर उद्योग मंत्री तक इस मामले को उठाने की बात कह दी है देखते हैं कि आने वाले समय में क्या इस मामले में कार्रवाई होती है

या यूं कहा जाएकी ऐसे में प्रदेश में बनी ईमानदार सरकार और जनता को सुविधा पहुंचाने वाली सरकार की मेहनत पर पानी फेरने के लिए अधिकारी

क्या था पूरा मामला

पांवटा साहिब की जानी-मानी जीओन लाइफ साइंस (ZEON life sciences) पर लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने के आरोप लगे हैं बताया जा रहा है कि कंपनी से निकलने वाला दूषित पानी नालियों में बहाया जा रहा है जिसके कारण आसपास के बच्चे बूढ़े और अन्य लोग बीमार पड़ रहे हैं।

ZEON life sciences कंपनी पर गंभीर आरोप लगाते हुए शाहिद, शौकत, नीरज, राहुल, अशफाक, रफाकत, मानव शिकायत कर्ताओं ने बताया कि जिओ कंपनी रात होते ही अपना दूषित पानी नालियों में बहती है जिसके कारण हमारे बच्चे बूढ़े और हम लोग बीमार हैं कई बार शिकायतों के बाद भी अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं ला रहे हैं।

सूत्र बता रहे हैं कि जीओन लाइफ साइंस में हर रोज लाखों लीटर पानी इस्तेमाल होता है जबकि कंपनी का ईटीपी जोकि दूषित पानी को साफ करता है उसकी कैपेसिटी काफी कम है जिसके कारण कंपनी को दूषित पानी रात के अंधेरे में सड़कों पर छोड़ना पड़ता है।