लाहौल घाटी में लगातार तीसरे दिन बर्फबारी जारी, निचले इलाकों में अब तक डेढ़ फुट, और ऊंचाई वाले इलाकों से ढाई से तीन फुट तक बर्फ हैं गिरी।

लाहौल घाटी में लगातार तीसरे दिन बर्फबारी जारी, निचले इलाकों में अब तक डेढ़ फुट, और ऊंचाई वाले इलाकों से ढाई से तीन फुट तक बर्फ हैं गिरी।

 

मनाली के आस पास के क्षेत्रों में बीते 3 दिन से जारी है बर्फबारी का दौर

घाटी में हुई ताजा बर्फबारी से तापमान में देखी जा रही गिरावट ।

मनाली में पर्यटकों की संख्या में होने लगा इजाफा ।

 

एंकर:- हिमाचल प्रदेश के मनाली के आस पास के क्षेत्रों में बीते 3 दिनों से बारिश और बर्फबारी का दौर लगातार जारी है । घाटी में लगातार हो रही बर्फबारी से जंहा पूरा क्षेत्र शीतलहर की चपेट में आ गया है वंही मनाली घूमने आने वाले पर्यटक मनाली में हो रही बर्फबारी का जमकर लुत्फ ले रहे हैं । फरवरी का महीने धीरे धीरे बीतने को है ऐसे में जंहा मैदानी क्षेत्रों में गर्मीयों ने दस्तक देनी आरम्भ की है वीं पहाडों पर अभी सर्दियां अपना कहर बरपा रही है और घाटी में जमकर बर्फबारी हो रही है । मनाली के आस पास के क्षेत्रों में बीते दो दिन से हो रही ताजा बर्फबारी से समूची घाटी ठंड की चपेट में आ गई है। घाटी के तापमान में भी खासी गिरावट देखी जा रही है । अगर हम बात करे मनाली के आस पास के क्षेत्रों की तो यंहा पर आज दूसरे दिन भी बर्फबारी का दौर लगातार जारी रहा । अटल टनल रोहतांग में करीब साढे चार फीट ताजा बर्फबारी हो चुकी है इसके साथर ही मनाली के पर्यटन स्थल सोलंगनाला सहित आस पास के क्षेत्रों में भी जमकर बर्फबारी हो रही है। वंही घाटी में चल रहे खराब मौसम और बर्फबारी के चलते प्रशासन ने अटल टनल की और जाने वाले वाहनों पर राके लगा दी है और किसी भी वाहन को नेहरूकुड से आगे जाने की अनुमति प्रदान नही की जा रही है। मनाली घूमने आये पर्यटक घाटी में चल रहे इस मौसम का भी जमकर लुत्फ ले रहे हैं । मनाली घूमने आये पर्यटकों का कहना है कि उन्हें मनाली आ कर काफी अच्छा लग रहा है उनका कहना है कि यंहा पर आकर ऐसा लग रहा है कि मानो स्वर्ग में पंहुच गए हैं। पर्यटकों का कहना है मनाली आ कर उनका पूरा पैसा वसूल हो गया है । उन्होने कहा कि मैदानी क्षेत्रों में गर्मीयों अब आरम्भ हो गई है किन्तु यंहा पर अभी भी काफी ठंड है और बर्फबारी हो रही है ।वंही घाटी में हो रही बर्फबारी से किसान बागवान बेहद खुश नज़र आ रहे हैं। उम्मीद जता रहे हैं कि इस बार वे मौसमी नकदी फसल गोभी,मटर, ब्रोकली, आलू समेत घाटी में बोए जाने वाले फसलों के लिए अमृत का काम करेगी और अच्छी पैदावार देखने को मिलेगी।

बागवान भी काफी उत्साहित नज़र आ रहे हैं । उनका कहना है की सेब के बगीचों के लिए चिलिंग hours भी पूरे हो गए है।

 

बाइट:- स्थानीय लोग