पांवटा साहिब के सीसीआई राजबन में बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर ने की जांच 50 बच्चें की परखी सेहत

पांवटा साहिब के सीसीआई राजबन में बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर ने की जांच 50 बच्चें की परखी सेहत…

 

उपमंडल पांवटा साहिब के सीसीआई राजबन में सीसीआई द्वारा वहां रह रहे गरीब बच्चों के लिए मेडिकल कैंप लगाया गया। कैंप में पांवटा से बाल रोग विशेषज्ञ डाक्टर हरसिमरन सिंह द्वारा लगभग 50 बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की गई। इस दौरान सीसीआई राजबन द्वारा बच्चों को दवाइयां भी प्रदान की गई, ताकि उनके शरीर में हो रही कमी को दूर किया जा सके। डाक्टर द्वारा कुछ बच्चों को दवाइयों व टेस्ट के लिए अस्पताल भी बुलाया गया। इस दौरान डा. हरसिमरन सिंह ने बच्चों के माता-पिता को बच्चों के स्वास्थ्य को ठीक रखने के बारे में सुझाव दिया। उन्होंने बताया कि बच्चे देश का भविष्य हैं। उनका शिक्षित और स्वस्थ होना जरूरी है। उन्होंने बच्चों व उनके अभिभावकों को बताया कि जरूरतमंद व बेसहारा बच्चों की मदद के लिए 1098 पर फोन कर सकते हैं।

 

सीसीआई राजबन द्वारा समय-समय पर इन बच्चों के साथ एक्टिविटी व जागरूकता कैंप आयोजित किए जाते रहते हैं। डा. हरसिमरन सिंह ने बताया कि शिविर में खांसी-जुखाम के इलाज के लिए बच्चे आए थे जिनकी जांच कर उनको दवाई दी गई। इसके अलावा ज्यादातर बच्चे कुपोषण का शिकार थे जिनकी जांच कर उनके माता-पिता को इस बीमारी से कैसे बचना है उसके बारे में जागरूक किया। डा. हरसिमरन ने बताया कि बच्चे के स्वस्थ शरीर के लिए पौष्टिक और संतुलित आहार जरूरी है। यह आहार शरीर में जरूरी पोषक तत्त्वों की पूर्ति करते हैं और बीमारियों के जोखिम से बचाते हैं। साथ ही इस बात का ध्यान रखना भी आवश्यक है कि बच्चों को दिए जाने वाले खाद्य पदार्थ से हासिल होने वाले पोषक तत्त्व संतुलित मात्रा में हों, क्योंकि पोषक तत्त्वों की कमी या अधिकता बच्चों के संपूर्ण स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है जिससे कुपोषण की समस्या पैदा हो सकती है। वहीं बच्चों में बढ़ते वजन या मोटापा कुपोषण का जोखिम कारक भी बन सकता है जिस पर वक्त रहते ध्यान देना जरूरी है।