पांवटा सिविल अस्पताल में नहीं हो रहे मेजर ऑपरेशन

पांवटा सिविल अस्पताल में नहीं हो रहे मेजर ऑपरेशन..

दर्जन से अधिक मरीज हर महीने किए जा रहे रेफर

एनेस्थीसिया का पद रिक्त होने से नहीं मिल रही सुविधाएं…

 

पांवटा साहिब (सिरमौर)। सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में मेजर ऑपरेशन न होने लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस अस्पताल में सर्जन और ऑर्थो विशेषज्ञ चिकित्सक के पद भरे जा चुके हैं। यहां तक कि बेहतरीन ऑपरेशन थियेटर भी बन चुका है। बावजूद इसके इस अस्पताल में लोगों को मेजर ऑपरेशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इस अस्पताल में ढाई साल से एनेस्थीसिया का पद रिक्त चल रहा है। इस वजह से इस अस्पताल से मेजर ऑपरेशन के दो दर्जन से अधिक मरीजों को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है। सबसे अधिक परेशानी मध्यम और गरीब वर्ग के लोगों को हो रही है। सनद् रहे कि यहां हर दिन 800 से 1000 की ओपीडी रहती है। इनमें कई गंभीर रोगी ऑपरेशन से संबंधित होते हैं। अस्पताल में मेजर ऑपरेशन के दौरान मरीज को बेहोश करने के लिए एनेस्थीसिया की व्यवस्था नहीं है। इसके चलते गंभीर मरीजों को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है। पांवटा निवासी डीएस ठाकुर, यशपाल राणा, सुनील चौधरी, बिमला ठाकुर और रविता का कहना है कि सिविल अस्पताल में औद्योगिक इकाइयों, खनन क्षेत्रों या सड़क हादसे के गंभीर मरीज पहुंचते हैं। आपातकाल में तत्काल ऑपरेशन करने की जरूरत पड़ती है।

 

जिला अस्पताल में बेहोशी के एनेस्थीसिया डॉक्टर का पद रिक्त होने से काफी दिक्कतें आ रही हैं। अस्पताल में डॉक्टरों के 22 पद भर दिए गए हैं लेकिन सबसे जरूरी एनेस्थीसिया डॉक्टर की नियुक्ति नहीं की जा रही है।

इस कारण अन्य सभी सुविधाएं होते हुए भी हर माह दो दर्जन से अधिक गंभीर मरीज रेफर कर दिए जाते हैं जो मध्यम व गरीब वर्ग के लिए अन्याय है। सिविल अस्पताल प्रभारी डॉ. अमिताभ जैन ने कहा कि एनेस्थीसिया का पद रिक्त चल रहा है।

 

इस वजह से कई बार आपातकालीन मेजर ऑपरेशन के लिए मरीज हायर सेंटर रेफर करने पड़ रहे हैं। अस्पताल में एनेस्थीसिया डॉक्टर की तैनाती होने पर मेजर ऑपरेशन भी शुरू हो सकेंगे।