पांवटा हॉस्पिटल बदलते मौसम को लेकर सतर्क…

सिविल अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अमिताभ जैन ने बच्चों के लिए दिए हिदायत…..

 

निर्वाचन क्षेत्र पांवटा साहिब स्थित सिविल अस्पताल के वरिष्ठ बाल विशेषज्ञ डॉक्टर अमिताभ जैन में मौसम के बदलते मिजाज के चलते बच्चों को कुछ सावधानियां बरतने के लिए हिदायत दी है, चूंकि प्रदेश में कोरोना एवं इनफ्लुएंजा का प्रकोप है। BF

 

जानकारी देते हुए सिविल अस्पताल के बाल विशेषज्ञ डॉक्टर अमिताभ जैन ने बताया कि दिन प्रतिदिन मौसम किस कदर बदल रहा है कि दिन में मौसम गर्म और रात में ठंड का प्रकोप रहता है जिसके चलते अक्सर बीमारियां दस्तक देने लगती हैं।

 

ऐसे में बच्चे इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं क्योंकि बच्चों को नहीं पता होता है कि गर्म मौसम होने पर किस प्रकार के कपड़े पहने हैं तो था जब मौसम ठंडा होने लगता है तो क्या पहनना है जिसकी वजह से वह सर्दी जुकाम के शिकार हो जाते हैं।

 

उन्होंने बताया कि जैसे ही मौसम का मिजाज बदलने लगे हमें बच्चों का खासकर ध्यान रखना चाहिए जैसे खाने-पीने में बदलाव कपड़े बदलने का तरीका नहाने का समय इत्यादि।

 

साथ ही साथ उन्होंने यह भी कहा कि गलत खानपान हमारा शरीर पूरी तरह प्रभावित होता है क्योंकि एक मात्र शरीर का एक ऐसा हिस्सा है जिस पर हमारा पूरा शरीर निर्भर होता है। यदि हमारा खान-पान स्वस्थ और नियमानुसार नहीं होगा तो हम बीमार रहेंगे जैसे कि यदि सर्दी के समय में हम ठंडा खाना खाएंगे ठंडा पानी पिएंगे तो ऐसे में कई सारे विकार हमारे शरीर में उत्पन्न हो जाते हैं।

 

दूसरी और यदि मौसम गर्म है तो तो भी हमारे खाने पीने का एक अलग तरीका होता है कुछ चीजें ऐसी होती जिन्हें खाने से हमारे शरीर को नुकसान हो सकता है तो ऐसे में खाने-पीने के प्रति सावधानी बरतकर हम रोगों से दूर रह सकते हैं।

 

जैसा कि हम सब जानते हैं मौसम अब गर्म होने लगा है तो ऐसे में हमें बच्चों के कपड़े पहनने पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि अभी गर्मी का आगमन है और एकदम से गर्मी के कपड़ों में आना कतई समझदारी नहीं है।

 

आती हुई गर्मी में मौसम दिन में गर्म और शाम के वक्त में ठंडा रहता है तो ऐसे में बच्चों को एकदम से कपड़े पहनाना कम नहीं करना चाहिए इससे भी सर्दी की चपेट में आ सकते हैं।

 

जैसा कि सभी जानते हैं कि हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर से करो ना अपने पांव पसारने लगा है तो दूसरी और इनफ्लुएंजा का भी प्रकोप हिमाचल प्रदेश में देखने को मिल रहा है।

कोरोना और इन्फ्लूएंजा को लेकर सिरमौर अलर्ट

 

कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से भारत देश के साथ-साथ हिमाचल प्रदेश में विजय हासिल की और कई लोगों ने इस महामारी के चलते हैं अपने प्राण भी त्यागे लेकिन कई लोगों ने इसका पूरी ताकत से सामना भी किया है।

 

करुणा एवं इनफ्लुएंसर जैसी बीमारी से लड़ने के लिए हिमाचल प्रदेश जिला सिरमौर के पोंटा साहिब सिविल अस्पताल में पुख्ता इंतजाम किए गए हैं डॉक्टर्स की एक टीम इस पर निरंतर काम कर रही है।

 

कोरोना एवं इनफ्लुएंजा के मरीजों के इलाज के लिए पांडा सिविल अस्पताल में विशेष इंतजाम किए गए हैं कोरोना से पीड़ित पेशेंट के लिए एक अलग वार्ड का निर्माण किया गया है ताकि ऐसे गंभीर रोगों से लड़ने के लिए मरीजों पर विशेष ध्यान दिया जा सके और उनको स्पेशल वार्ड्स में रखकर उन पर अलग से ध्यान दिया जाता है वही हरकत के साथ ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है।

 

इन्फ्लूएंजा के शुरुआती लक्षण खुद से महसूस होने लगते हैं जैसे खांसी, जुकाम और हल्का बुखार आदि ।

 

कैसे करता है आपके शरीर में प्रवेश…

 

इन्फ्लूएंजा वायरस हमारे शरीर में नाक, आंख और मुंह से प्रवेश करता है, इसके अलावा इस वायरस से पीड़ित व्यक्ति के खांसने और छींकने पर अन्य व्यक्ति संपर्क में आता है तो यह वायरस फैल सकता है।

 

बचाव:-

डॉक्टर से संपर्क करें ।

घर पर रहें।

 

लोगों के संपर्क में आने से बचें। शरीर को गर्म रखें और जितना हो सके आराम करें। अधिक मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें। शराब का सेवन न करें।

 

धूम्रपान न करें।

भोजन ज़रूर करें।

 

यदि आप अकेले रहते हैं तो अपने पड़ोसी रिश्तेदारों और पड़ोसियों के संपर्क में रहें, ताकि वह समय समय पर आप पर नज़र रख सकें।