पांवटा में फिर बिगड़ी शहर की ट्रैफिक व्यवस्था

मुख्य बाजार में जाम की स्थिति पुलिस का कोई भी जवान तैनात नहीं…

 

पावटा साहिब के मुख्य बाजार में इन दिनों बिगड़ी यातायात व्यवस्था से हर कोई बेहाल नजर रहा है। शहर भीतरी भागों में मुख्य बाजार आए दिन जाम लगने से दुपहिया वाहन चालकों को भी अत्यधिक परेशनी का सामना करना पड़ रहा है।

 

गौरतलब है कि गरीबों का मौसम शुरू हो चुका है बाहरी राज्यों के लोग पांवटा साहिब के ऐतिहासिक गुरुद्वारा में शीश नवाज ने के लिए पहुंच रहे हैं मुख्य बाजार बाल्मीकि चौक के समीप बेतरतीब खड़े वाहनों से यातायात व्यवस्था दिन दिन बिगड़ती जा रही है। इस संबंध में यातायात पुलिस द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है जिससे लोग जहां मर्जी अपने वाहन खड़े कर देते हैं।

पांवटा में अब यह हालात है कि जहां भी जगह मिलती है वहां बड़े छोटे वाहन पार्क कर दिए जाते हैं। मुख्य बाजार में शाम के समय कई वाहन पार्क होते है जिससे जाम लग जाता है। शाम के समय बाजार में भीड़ भी अधिक होती है उस स्थिति में बाजार से निकलना बेहद कठिन हो जाता है। वाहन चालक अपनी मनमर्जी से वाहन को सड़क के बीच में खड़ा कर देते हैं। इस पर यातायात पुलिस कर्मी भी कोई कार्रवाई नहीं करते है। जो यातायात व्यवस्था को बिगाड़ने का सबसे बड़ा कारण है। शहर में दुकानों के आगे वाहन चालक बेतरतीब वाहनों को छोड़ देते है। जिससे कई बार मार्ग अवरुद्ध हो जाता है।

 

इतना ही नहीं दुकानदारों ने भी 5,5 फुट सड़कों पर कब्जे कर लिए हैं जिससे सर के पहले भी तंग हो गई है ऊपर से वाहन चलने से यातायात बाधित हो रहा है

 

ट्रैफिक पुलिस का जागरूकता अभियान फेल

 

पावटा ट्रैफिक पुलिस टीम सुबह से लेकर शाम तक लगातार नेशनल हाईवे के सभी चौक चौराहे पर तेजी से काम कर रही है लेकिन जैसे ही वाहन चालक बाजार में प्रवेश करते हैं यातायात नियमों की जमकर धज्जियां उड़ा देते हैं सच कहें तो दुकानदार और दोपहिया वाहन ई रिक्शा चालक ऑटो चालक की वजह से शहर में आम जनमानस परेशान हैं और यह सभी यातायात व्यवस्था की धज्जियां उड़ाने के लिए भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं

 

दुकानदार है परेशान

 

बिगड़ीयातायात व्यवस्था से सबसे ज्यादा व्यवसायी परेशान है। जिनकी दुकानों के आगे वाहन खड़े कर दिए जाते है। कई बार बेतरतीब खड़े वाहनों के बीच दुकान तक पहुंचना भी मुश्किल हो जाता है। जिससे दुकान तक ग्राहक के नहीं पहुंचने पर दुकानदार को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है।

 

आवारा पशु भी है कारण…

 

बिगड़ीयातायात व्यस्था में आवारा पशुओं का विचरण भी बड़ा कारण है। बाजार में स्वछंद विचरण करने वाले पशु कभी भी कहीं भी बैठ जाते है। जिससे राहगीरों को अत्यधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है। आवारा पशुओं की आपस में कई बार भिड़ंत भी हो जाती है जिससे वाहनों के नुकसान के साथ कई बार स्थानीय सैलानियों को भी चोटे लग चुकी है।

 

क्या बोली जनता

 

शहर की ट्रेफिक व्यवस्था बहुत ही खराब है। सुबह से ही दुकान के आगे वाहन खड़े होने शुरू हो जाते है। जिससे ग्राहकों को दुकान तक आने में काफी परेशानी होती है। पंकज शर्मा

 

शहरमें अब यातायात व्यवस्था पूरी तरह से खराब हो गई है। शाम के समय बाजार से निकलना बेहद मुश्किल है। इस संबंध में कई बार यातायात कर्मियों को कहा लेकिन व्यवस्था में सुधार होता नहीं दिख रहा है। नाथू राम समाज सेविक

 

डीएसपी के मास्टर प्लान को भी दिखाएं वाहन चालकों ने ठेंगा

 

डीएसपी पहुंचाने यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए ट्रैफिक पुलिस टीम रोड सेफ्टी क्लब अन्य व्यापारी वर्ग के साथ बैठक भी की कई तरह के प्लान भी बनाए गए लेकिन उसके बावजूद भी दुकानदार पर शासन के नियमों को ठेंगा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।