पांवटा सिविल अस्पताल में डी-हाईड्रेशन के ज्यादा मामले, बासी खाने से करें परहेज

पांवटा साहिब अस्पताल में गर्मियां आते ही मरीजों की संख्या बढऩे लगी है। इस दौरान पांवटा सिविल अस्पताल में बड़ों से लेकर बच्चे तक अस्पताल में डीहाईड्रेशन व अन्य बीमारियों के इलाज के लिए पहुंच रहे हैं और अपना उपचार करवा रहे हैं। इस दौरान अस्पताल के चिकित्सकों ने लोगों को धूप और गर्मी से होने वाली बीमारियों से बचने की सलाह दी है। डाक्टरों ने कहा कि गर्मी का मौसम आते ही कई किस्मों की बीमारियां लोगों को घेरना शुरू कर देती हैं। वहीं अपने सही खान-पान से इनकी सेहत के लिए घातक बीमारियों से बचा जा सकता है। गर्मी के मौसम में डायरिया, हैजा, पीलिया, डीहाईड्रेशन सहित कई बीमारियों के होने की ज्यादा संभावनाएं रहती हैं।

ऐसे रोग गंदे पानी के उचित निकासी नहीं होने, पीने का पानी ढका न होना, बिना ढके खाने पर मंडराती मक्खियां, बासी खाना खाने आदि कारणों से हो सकते हैं। इससे मरीज को उल्टियां, दस्त व बुखार जैसे रोग जकड़ लेते हैं। इनसे मरीज के शरीर में पानी की कमी होने से डी-हाईड्रेशन हो सकता है। ऐसे में जितना जल्दी हो सके मरीज को नजदीक के अस्पताल में डाक्टरी उपचार के लिए ले जाना चाहिए। गर्मी का प्रकोप बढ़ते ही कई प्रकार की बीमारियों ने भी दस्तक देना आरंभ कर दिया है। इनमें उल्टी दस्त, बुखार, टायफायड और पीलिया जैसे रोग लोगों को मुश्किलों में डालने लगे हैं। चिकित्सकों की मानें तो गर्मी के मौसम में लोगों को अपने खान-पान की ओर अधिक ध्यान देना चाहिए।

 

One thought on “पांवटा सिविल अस्पताल में डी-हाईड्रेशन के ज्यादा मामले, बासी खाने से करें परहेज

Comments are closed.