हिमाचल प्रदेश में आज क्या है खास ,एक क्लिक में सारी खबरें

 

हिमाचल प्रदेश में आज क्या है खास, एक क्लिक में सारी खबरें

आयुष विभाग में भरे जाएंगे 13 पद, आयुर्वेद फार्मासिस्ट के पद पर होगी भर्ती

सात सीधी भर्ती और छह पद भरे जाएंगे बैचवाइज आधार पर
भर्ती प्रक्रिया में शामिल होंगे जमा दो पास के उम्मीदवार
स्टाफ रिपोर्टर-शिमला
आयुष विभाग में आयुर्वेद फार्मासिस्ट के 13 पदों पर भर्तियां होनी है। इन भर्तियों के लिए विज्ञापन जारी कर दिए है। आयुष विभाग की ओर से जारी विज्ञापन के अनुसार यह भर्तियां पर्सन विद डिसेबिलिटी कोटे से की जानी है। इनमें से सात पदों पर सीधी भर्ती की जाएगी, जबकि छह पदों पर बैचवाइज आधार पर भर्ती की जाएगी। सात पदों पर होने वाली सीधी भर्ती में से दो पद 50 प्रतिशत तक कम विजन वाले उम्मीदवारों के लिए आरक्षित हैं। वहीं दो पद 50 प्रतिशत तक कम सुनने की अक्षमता वाले उम्मीदवारों के लिए आरक्षित रहेंगे। एक पद मल्टीपल डिसेबिलिटी वाले उम्मीदवार और दो पद आर्थोपेडिकली हैंडीकैपड के लिए आरक्षित है।
इसी प्रकार बैचवाइज आधार पर भरे जाने वाले छह पदों में से दो पद प्रतिशत तक कम विजन वाले उम्मीदवारों के लिए आरक्षित हैं। वहीं दो पद 50 प्रतिशत तक कम सुनने की अक्षमता वाले उम्मीदवारों के लिए आरक्षित रहेंगे। एक पद मल्टीपल डिसेबिलिटी वाले उम्मीदवार और एक पद आर्थोपेडिकली हैंडीकैपड के लिए आरक्षित है। इन पदों के लिए शैक्षणिक योग्यता जमा दो रखी गई है। उम्मीदवार की आयु सीमा 18 से 45 वर्ष निर्धारित रखी गई है।

 

 

2th news
पैट को तीन और लीट के लिए छह मई तक करें अप्लाई, 21 और 28 मई को होगा एग्जाम

हिमााचल प्रदेश तकनीकी शिक्षा बोर्ड की ओर से मई में ली जाने वाली बहुतकनीकी प्रवेश परीक्षा (पैट) और लेटरल एंट्री एंट्रेस टेस्ट (लीट) की प्रवेश परीक्षाओं में आवेदन करने के लिए तीन व सात दिन शेष है। विद्यार्थियों को अंतिम तिथि से पहले जल्द आवेदन करना होगा। इस परीक्षाओं में दसवीं व जमा दो के छात्र भी परीक्षाओं में भाग ले सकेंगे। बहुतकनीकी प्रवेश परीक्षा के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता दसवीं तथा लीट के लिए योग्यता जमा दो व दसवीं, जमा दो व आईटीआई है।
इसके अलावा जो विद्यार्थी जमा दो व दसवीं में अपीयर हुए है, वे भी प्रवेश परीक्षा में भाग ले पाएंगे। उन विद्यार्थियों को काउंसिलिंग के दौरान अपने शैक्षणिक दस्तावेज कांउसिलिंग कमेटी के समक्ष रखने होंगे। पैट की प्रवेश परीक्षा में आवेदन करने की अंतिम तिथि दो मई निर्धारित की गई है, और लीट के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि छह मई है। पैट की परीक्षा 21 मई को होने जा रही है, वहीं लीट की परीक्षा 28 मई को होगी, जिसके लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि निर्धारित कर दी गई है। जिसके लिए अभ्यर्थियों को जल्द से जल्द आवेदन करना होगा। बोर्ड ने सूचना जारी की है कि अंतिम तिथियों को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा। उधर, तकनीकी शिक्षा बोर्ड धर्मशाला सचिव ने कहा कि सरकारी व निजी बहुतकनीकी संस्थानों में प्रथम वर्ष डिप्लोमा इंजीनियरिंग के लिए लगभग 3200 व द्वितीय वर्ष के लिए लगभग 978 सीटें भरी जानी हैं।

*न पानी न बिजली, सुविधाओं के इंतजार में गांव हो गया खाली, विकास में पिछड़ा सोलन का बागा गांव*

 सरकार-प्रशासनिक अधिकारियों की अनदेखी से ग्रामीण पुश्तैनी जमीन छोडऩे को मजबूर
जिला मुख्यालय सोलन के साथ लगती कोरों-कैंथड़ी पंचायत में एक गांव ऐसा भी है, जहां आज तक ग्रामीणों को बिजली-पानी नसीब नहीं हो पाया है। इस कारण बागा गांव के आधा दर्जन परिवार अपनी पुश्तैनी जमीन छोडक़र अन्य जगह पर रहने के लिए विवश हो रहे हंै। राजनेताओं, प्रशासन व अधिकारियों से बार-बार आग्रह करने के बाद भी उनकी सुध नहीं ली जा रही है। ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें जल्द से जल्द गांव में बिजली व पानी की सुविधा मुहैया करवाई जाए।
कसौली वि;क्षेत्र की पंचायत कोरों-कैंथड़ी के गांव बागा के ग्रामीण पिछले कई वर्षों से बिजली व पानी की मांग कर रहे हैं। इसको लेकर न केवल पंचायत में प्रस्ताव डाला गया है, बल्कि ग्रामीण अपने स्तर पर भी नेताओं, प्रशासन व अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन अभी तक उनकी मांग पूरी नहीं हो पाई है। कोरों-कैंथड़ी पंचायत के प्रधान नरेंद्र ठाकुर ने कहा कि पंचायत की ओर से समस्या का संज्ञान लिया गया है और प्रशासन व विभागीय अधिकारियों के समक्ष समस्या को प्रमुखता से रखा है। आशा है जल्द समस्या का हल कर दिया जाएगा। –
2018 से मांग रहे इनसाफ
स्थानीय ग्रामीण देवराज, हरि मोहन, मोहन सिंह, प्रेम सिंह, गीता राम, मदन लाल, चतर सिंह, जय दत्त व श्याम लाल ने बताया कि इस समस्या को लेकर वर्ष 2018 में पंचायत की प्रस्ताव डालकर तत्कालीन कसौली के विधायक से आग्रह किया गया था। उनसे मांग की गई थी कि समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए, लेकिन समस्या की जस की तस
बनी रही।
खेतखलियान बने बंजर
ग्रामीणों ने बिजली-पानी की समस्या मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के माध्यम से भी उठाई गई थी

 

 

 

4th news
*मैट्रिक-जमा दो के टॉपर्स को मेडल, शिक्षा बोर्ड के सचिव डाक्टर अभिषेक ने की घोषणा*

 अधिकारियों को जारी किए निर्देश, राज्य स्तर पर करें कार्यक्रम
सचिव शिक्षा डा. अभिषेक जैन ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के सभागार में बोर्ड के अधिकारियों के साथ बैठक कर शिक्षा बोर्ड की कार्यप्रणाली की समीक्षा की। इस मौके पर बोर्ड के अध्यक्ष और उपायुक्त कांगड़ा डा. निपुण जिंदल तथा सचिव स्कूल शिक्षा बोर्ड डा. विशाल सहित बोर्ड के सभी अधिकारी उपस्थित रहे। डा. अभिषेक जैन ने शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों से उनके कार्यों का ब्योरा लेते हुए, शिक्षा बोर्ड की कार्यप्रणाली को दुरुस्त करने के सुझाव दिए।
उन्होंने कहा कि पाठ्यक्रम को तैयार करते समय बच्चों का समग्र विकास ही हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रदेश में दसवीं और बारहवीं कक्षा में शिक्षा बोर्ड के टॉपर्स को मेडल देकर सम्मानित किया जाए। उन्होंने कहा कि जो मेधावी बच्चें वर्ष भर मेहनत करके स्कूल शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त करते हैं, उनका सम्मान करना हमारे लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि अच्छा प्रदर्शन करने वाले बच्चों को बोर्ड स्कॉलरशिप तो देता ही है लेकिन राज्य स्तर पर एक कार्यक्रम आयोजित कर टॉपर्स को बोर्ड द्वारा अच्छे मेडल और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया जाए। उन्होंने इस कार्यक्रम में बच्चों के साथ उनके अभिभावकों को बुलाने की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए।
परीक्षाओं से जुड़े काम में बरती जाए पारदर्शिता
छात्र बोर्ड परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए वर्षभर कड़ी महनत करते हैं। परीक्षाओं से जुड़े सभी कार्यों में पूरी पारदर्शिता बरती जाए।

 

5th news

*बॉर्डर एरिया में टेन्योर पूरा कर चुके कर्मचारी बदलेंगे, सीएम ने सभी विभागों को दिए आदेश*

अन्य सभी प्रकार के तबादलों पर प्रतिबंध, सीएम को जाएगी फ़ाइल
मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने सभी विभागों को राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में तैनात सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों में से उन कर्मचारियों के तबादले करने के निर्देश दिए हैं, जिनका सामान्य कार्यकाल पूरा हो चुका है। ये तबादले सरकारी कर्मचारियों के लिए 2013 से लागू तबादला सिद्धांतों के प्रावधानों के अनुसार ही होंगे।  मुख्य सचिव प्रबोध सक्सेना की ओर से इस बारे में सभी प्रशासनिक सचिवों, विभागाध्यक्षों, मंडलायुक्त, जिलाधीशों और स्वायत्त संस्थानों के मुखियाओं को आदेश जारी किए गए हैं। इसमें कहा गया है कि सरकार के ध्यान में ऐसा आया है कि विभाग ऐसे कर्मचारियों को बॉर्डर एरिया से ट्रांसफर नहीं कर रहे हैं, जो अपना नॉर्मल टेन्योर पूरा कर चुके हैं। इसलिए सभी विभाग इस प्रक्रिया को शुरू करें और मिनिस्टर इंचार्ज के माध्यम से मुख्यमंत्री को इस बारे में केस भेजे जाएं।
इस प्रक्रिया में यह ध्यान रखा जाए कि बॉर्डर एरिया में काम प्रभावित न हो और इन कर्मचारियों या अधिकारियों का विकल्प वहां मिल जाए। हालांकि इसके साथ ही मुख्य सचिव की ओर से तबादलों से संबंधित एक और निर्देश ट्रांसफर पर बैन के जारी किए गए हैं। वर्तमान में तबादलों पर प्रतिबंध चल रहा है और सिर्फ मुख्यमंत्री के आदेश से ही तबादले हो सकते हैं। इसलिए मुख्य सचिव ने सभी विभागों से कहा है कि ट्राइबल और हार्ड एरिया में पद भरने के लिए या वैकेंसी को भरने के लिए ही तबादले किए जाएं और यह तबादले भी मुख्यमंत्री की अनुमति से हों। अन्य तबादलों पर बैन ही रहेगा।

 

6th news

*कल से बारिश-ओलावृष्टि, प्रदेश में पांच मई तक मौसम दिखाएगा कई रंग*

अलर्ट जारी, किसानों-बागबानों की और बढ़ेंगी चिंताएं
हिमाचल प्रदेश में बारिश व ओलावृष्टि का दौर जारी है। शनिवार को राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में बारिश एवं ओलावृष्टि हुई है। राजधानी शिमला में करीब एक बजे के बाद मौसम ने करवट बदली, फिर बारिश व ओलावृष्टि का दौर शुरू हुआ। बारिश व ओलावृष्टि के कारण शहर की रफ्तार लगभग थम सी गई थी। इसी तरह प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में बारिश व ओलावृष्टि से किसानों बागबानों की फसलों को नुकसान हुआ है। वहीं मौसम विभाग की मानें, तो प्रदेश में बारिश व बर्फबारी का दौर अभी थमने वाला नहीं है। पांच मई तक प्रदेश में बारिश व ओलावृष्टि होने की संभावना है। वहीं पहली से तीन मई तक भारी बारिश व ओलावृष्टि होगी। इसे लेकर मौसम विभाग की ओर से ओरेंज अलर्ट जारी कर दिया है, जबकि इसके बाद प्रदेश में पांच मई तक बारिश एवंं ओलावृष्टि को लेकर यलो अलर्ट जारी रहेगा। मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश के 10 जिलो में यह अलर्ट जारी किया गया है।
लाहुल-स्पीति व किन्नौर जिला को छोडक़र बाकी सभी जिलो के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया गया है। ऐसे में आने वाले दिनों में प्रदेश के किसानों व बागबानों को ओलावृष्टि के कारण काफी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ सकता है। ऊपरी क्षेत्रों में जहां सेब व अन्य फल फसलो को नुकसान हो सकता हैं। वहीं निचले क्षेत्रों में गेहूं व सब्ज्यिों की फसलें प्रभावित हो सकती हैं। हिमाचल प्रदेश में पिछले कई दिनों से लगातार बारिश व ओलावृष्टि के कारण तापमान में काफी ज्यादा गिरावट देखी गई है। हालत ये हैं कि मई के महीने में सर्दियों के जैसा एहसास है। मौसम विभाग की माने तो प्रदेश में अधिकतम व न्यूनतम तापमान सामान्य से काफी ज्यादा कम चल रहा है

 

7thnews

*जंगली हाथियों के हमले में वृद्ध महिला की मौत, पांवटा साहिब के कोलर में लकडिय़ां लाने गई थी अभागी*

पांवटा साहिब स्थित कोलर में जंगल से लकड़ी लेने गई वृद्ध महिला पर जंगली हाथियों के झुंड ने हमला कर दिया है, जिसमें उपचार के दौरान महिला की नाहन मेडिकल कालेज में मृत्यु हो गई है।जानकारी के मुताबिक करीब 70 से 75 वर्ष उम्र की एक वृद्ध महिला पास ही के जंगल से लकड़ी लेने के लिए गई हुई थी, तभी कुछ जंगली हाथियों ने महिला पर हमला कर दिया, जिसमें महिला बुरी तरह से घायल हो गई। हमले में घायल महिला को इलाज के लिए नाहन मेडिकल कालेज ले जाया गया, जहां महिला ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।
डीएफओ नाहन आईएफएस सौरव झाकड़ ने बताया है कि हमले में मृतक महिला एक फोरेस्ट गार्ड की मां थी, जो कि पास के जंगल से लकड़ी लेने गई थी कि जंगली हाथियों द्वारा हमला किए जाने पर मृत्यु हो गई है। फिलहाल अभी इस बात की पुष्टि नहीं की गई है कि आखिर हमले के समय कितने हाथी मौजूद थे
सुजानपुर चौगान के बीच बसें खड़ा करने का विरोध
संसार में सबसे पावन और पवित्र है हिमाचल की धरती
डीएवी स्कूल चंबा में मनाया खगोल विज्ञान दिवस
मेक्सिको लिपोसक्शन: मनचाहा शरीर पाने का वहनीय तरीका
मेक्सिको लिपोसक्शन
सचिवालय का पेपर भी लीक, चयन आयोग के पेपर लीक मामले में छठी एफआईआर दर्ज

आज ‘मन की बात’ का शतक जड़ेंगे पीएम मोदी, संयुक्त राष्ट्र के न्यूयार्क स्थित हैडक्वार्टर पर भी लाइव ब्रॉडकास्ट

जेईई मेन्स में तेलंगाना के सिंगराजू संग 43 ने हासिल किए 100 पर्सेंटाइल, 8 लाख स्टूडेंट्स ने दी थी परीक्षा

 

 

8th newe

*पांच जिलों की पुलिस नशे पर कसेगी नकेल, पुलिस कल्याण कमेटी की बैठक में डीआईजी के निर्देश*

बैठक में डीआईजी ने क्राइम से निपटने को पुलिस अधिकारियों से की चर्चा
हाई-वे पर तेज रफ्तार वाहनों पर कसा जाएगा शिकंजा, पुलिस रखेगी निगरानी
पुलिस लाइन हमीरपुर में शनिवार को मंडी रेंज के तहत आने वाले पांच जिलों के अधिकारियों की बैठक डीआईजी मधुसूदन शर्मा की अध्यक्षता में हुई। इसमें आला पुलिस अधिकारियों को क्राइम से जुड़े मामलों से निपटने और पुराने पेंडिंग केसों को जल्द हल करने निर्देश दिए गए। बैठक में एसपी कुल्लू साक्षी वर्मा, एसपी मंडी सौम्या, पुलिस अधीक्षक बिलासपुर जीसी कार्तिकेयन, एसपी लाहुल-स्पिति मंयक चौधरी, एसपी हमीरपुर आकृति शर्मा उपस्थित रहे। बैठक में पुलिस कर्मचारियों की अलग-अलग जिलों में क्या-क्या समस्याएं हैं, उन पर भी चर्चा की गई।
बैठक में पुलिस विभाग द्वारा चलाई जा रही कर्मचारियों और आम जनता के कल्याण की योजनाओं पर भी रिपोर्ट लेकर नए दिशा निर्देश दिए गए। बैठक में नशे से निपटने को लेकर आला पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए गए और कहा गया कि इन मामलों पर सख्ती से नकेल कसी जाए। इसमें आम जनता का भी खास तौर पर सहयोग लिया जाए, ताकि बढ़ते नशे को रोका जा सके। डीआईजी मधुसूदन ने कहा पुलिस महकमा नशे के खिलाफ विभाग तेजी से काम कर रहा है और इसमें सबका सहयोग जरूरी है।
उन्होंने बताया कि जल्द ही शुरू हो रहे नेशनल हाई-वे पर किस तरह से ट्रैफिक और तेज रफ्तार पर नजर रखी जाए, इसे लेकर भी इस बैठक में चर्चा की गई है। उन्होंने कहा कि विभाग के कर्मचारियों और आम जनता के कल्याण के लिए भी जो योजनाएं विभाग द्वारा चलाई जा रही हैं, उस पर भी सबके साथ बात की गई है। जाहिर है कि वर्तमान में नशा प्रचलन काफी अधिक बढ़ा है

 

9th news

*प्री-प्राइमरी स्कूलों को 150 करोड़; शिक्षकों की सैलरी और भर्तियों पर होगा खर्च, केंद्र ने जारी किया बजट*

इस साल हो सकती हंै एनटीटी के पदों पर भर्तियां
पिछला बजट लैप्स होने पर समग्र शिक्षा विभाग ने केंद्र को भेजा था प्रस्ताव
प्रदेश के स्कूलों में प्री-प्राइमरी के लिए केंद्र की ओर से 150 करोड़ का बजट इस साल के लिए जारी कर दिया गया है। ऐसे में प्रदेश स्कूलों में प्री प्राइमरी को पढ़ा रहे शिक्षकों की सैलरी और भर्तियों पर यह पैसा खर्च होगा। यानी करीब 5000 शिक्षकों की वेतन अदायगी इस बजट से हो जाएगी। दरअसल 31 मार्च को केंद्र की ओर से मिला साढ़े 47 करोड़ का बजट लैप्स होने के बाद समग्र शिक्षा विभाग की ओर से केंद्र को यह प्लान भेजा गया था जिसे अब मंजूरी मिल गई है। ऐसे में उम्मीद जगी है कि प्री-प्राइमरी के बच्चों के लिए इस साल नई भर्तियां भी हो सकेगी और जल्द ही इन बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षक मिल सकेंगे। राज्य के सरकारी स्कूलों में पिछले तीन साल से प्री-प्राइमरी के बच्चों को जेबीटी शिक्षक ही पढ़ा रहे हैं लेकिन अब केंद्र सरकार की ओर से एनटीटी की भर्तियों के लिए बजट मिल चुका है। यह बजट प्रारंभिक शिक्षा विभाग को केंद्र सरकार की ओर से मिला है।
ऐसे में उम्मीद जगी है कि एनटीटी की भर्तियों को लेकर भी सरकार जल्द फैसला लेगी। राज्य के सरकारी स्कूलों में पिछले तीन सालों में 58 हजार बच्चे एनरोल हुए हैं। इसमें 55 सौ स्कूलों में प्री-प्राइमरी की कक्षाएं चल रही है। केंद्र की ओर से हर साल प्री-प्राइमरी के लिए बजट जारी किया जाता है। गौर रहे कि पूर्व भाजपा सरकार में भी एनटीटी भर्तियों को लेकर लगभग सभी तरह का प्रोसेस फाइनल हो चुका था लेकिन कोड ऑफ कंडक्ट के चलते यह भर्तियां नहीं हो सकी। वर्तमान कांग्रेस सरकार भी स्कूलों में एनटीटी भर्तियां करने के पक्ष