देवभूमि के वीरों को नम आंखों से विदाई, उद्योग मंत्री ने शिलाई के शहीद प्रमोद नेगी को दी श्रद्धांजलि

देवभूमि के वीरों को नम आंखों से विदाई, उद्योग मंत्री ने शिलाई के शहीद प्रमोद नेगी को दी श्रद्धांजलि

पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगाए गए नारे

 

जम्मू-कश्मीर के राजोरी में शहीद हुए प्रमोद नेगी की पार्थिव देह शिलाई में पंचतत्त्व में विलीन हो गई। सैकड़ों लोगों ने नम आंखों से शहीद को अंतिम विदाई दी। वहीं शहीद प्रमोद अमर रहे, जब तक सूरज चाँद रहेगा, शहीद प्रमोद तेरा नाम रहेगा आदि नारे लगाए। शहीद की पार्थिव देह घर पहुंचने पर माता-पिता व सभी ग्रामीणों की आंखें नम थीं। शहीद की बहन, माता-पिता व अन्य परिजन पार्थिक शरीर के ताबूत से लिपट कर रोने लगे। इसके साथ ही अंतिम विदाई में पहुंचे लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। पार्थिव देह के सम्मान में पुलिस तथा सेना के जवानों ने शहीद को सलामी दी। शहीद के छोटे भाई नितेश नेगी ने शव को मुखाग्रि दी। वहीं शहदत की इस घड़ी में प्रदेश के उद्योग मंत्री हर्षवर्धन चौहान, एसडीम शिलाई सुरेश कुमार सिंघा, सैन्य अधिकारी, तहसीलदार, विकास खंड अधिकारी, पुलिस अधिकारी आदि ने शहीद को सलामी दी। इसके बाद उद्योग मंत्री ने शहीद के घर जाकर माता-पिता से भेंट की और शोक संतप्त परिवार को सांत्वना दी।

 

आज अंतिम सफर पर निकलेगी अरविंद की पार्थिव देह पालमपुर। मातृभूमि के लिए सर्वस्व कुर्बान कर जांबाज अरविंद अपनी माता निर्मला देवी को ताउम्र न भरने वाला घाव दे गया, तो शनिवार को मां अपने बेटे की सूरत निहारने का इंतजार करती रही। आतंकियों से लोहा लेता शहीद हुए अरविंद कुमार की पार्थिव देह शनिवार देर शाम पालमपुर के होल्टा स्थित सैन्य छावनी पहुंची। जानकारी के अनुसार रविवार सुबह छह बजे होल्टा से शहीद अरविंद की पार्थिव देह सूरी गांव में उनके घर के लिए रवाना होगी। यहां पर उनकी पार्थिव देह अंतिम दर्शनों के लिए रखी जाएगी। करीब नौ बजे शहीद की पार्थिव देव अंतिम सफर के लिए रवाना होगी, जहां उनको पंचतत्त्व में विलीन किया जाएगा। जिला के उच्च अधिकारियों के साथ क्षेत्र के विधायक, अन्य नेता भी अंतिम संस्कार में भाग लेकर शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे।

 

फतेहपुर के जवान पंचतत्त्व में विलीन परौल के सुनील कुमार मणिपुर में ड्यूटी के दौरान हृदयगति रुकने से हुए शहीद टीम – फतेहपुर, हौरीदेवी

 

फतेहपुर के तहत पड़ती पंचायत झुंब खास के गांव परौल के 47 वर्षीय सेना के जवान को शनिवार को सैकड़ों नम आंखों ने अंतिम विदाई दी। पंचायत प्रधान गुरनेश कुमार ने बताया कि शहीद सुनील कुमार आठ आसाम राइफल में हवलदार पद पर मणिपुर के समीप तेसाद में तैनात थे। उन्होंने हाल ही में जेसीओ कैडर की परीक्षा दी थी, लेकिन जेसीओ रैंक मिलने से पूर्व ही गत चार मई को ड्यूटी दौरान हृदय गति रुकने कारण मौत हो गई। जैसे ही जवान की मौत की खबर क्षेत्र में फैली, पूरा क्षेत्र गमगीन हो गया। जवान की पार्थिक देह शनिवार सुबह उसके पैतृक गांव पहुंचाई गई, जहां पर पूरे सैन्य सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया। जवान की चिता को मुखाग्नि उनके बेटे आकाश शर्मा ने दी। इस दौरान 14 सिखलाई रेजिमेंट ममून के जवानों ने शहीद को बिगुल बजाकर गॉड ऑफ ऑनर की सलामी दी। सनद रहे जवान अपने पीछे पत्नी, एक बेटा व एक बेटी छोड़ गए। वहीं शहीद की अंतिम यात्रा में फतेहपुर विधायक भवानी सिंह से कन्याकुमारी तक भारत एक हुआ और विधान एक झंडा बना । श्री शांडिल्य ने कहा कि अब समय आ गया है और देश की जनता भी मोदी के साथ है और पीओके पर कब्जा कर भारतीय तिरंगा लहराया जाए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आस्तीन का सांप है ओर पाकिस्तान कभी हिंदुस्तान का मित्र नहीं हो सकता उनके मदरसों में हिंदुस्तान के खिलाफ जहर उगलना पढ़ाया जाता है।