पांवटा के सुरजपुर में मनाया गया शहीद शेर सिंह का शहीदी दिवस* अमर शहीद

*पांवटा के सुरजपुर में मनाया गया शहीद शेर सिंह का शहीदी दिवस*

अमर शहीद के पैतृक गांव सूरजपुर स्थित शहीद शेर सिंह के शहीद स्मारक पर प्रातः 10 बजे भूतपूर्व सैनिक संगठन पांवटा साहिब व शिलाई क्षेत्र तथा परिवार के सदस्यों ने मुख्य अतिथि गुंजीत सिंह चीमा एसडीएम पावंटा व उद्योगपति अरुण गोयल एवं दीपक गोयल की उपस्थिति में अमर शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इससे पूर्व शहीद की धर्मपत्नी वीना देवी व परिवार के सदस्यों ने शहीद स्मारक स्थल पर पूजा एवं यज्ञ करवाया।
सनंद रहे की शहीद शेर सिंह के स्मृति स्थल की देखरेख की जिम्मेदारी स्वेछा से तिरुपति फार्मा ग्रुप के पास है। स्वयं अरुण गोयल एवं दीपक गोयल ने एसडीएम पावंटा व परिवार तथा भूतपूर्व सैनिक संगठन के सदस्यों के साथ मिलकर तिरंगा फेहराया। तदोपरान्त राजकीय वरिष्ठ विद्यालय पूरूवाला की छात्राओं ने राष्ट्रीय गान गाया।
संगठन के सचिव संतराम चौहान ने शहीद शेर सिंह के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। शहीद शेर सिंह 14वीं बटालियन जम्मू व कश्मीर राईफल्स रेजिमेंट के अंतर्गत ऑपरेशन रक्षक में 28वीं राष्ट्रीय राईफल बटालियन के अधीन कश्मीर में तैनात थे। 27 मई 2003 को शेर सिंह पाकिस्तानी घुसपैठियों से लोहा लेते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। उन्हें उनके अदम्य साहस व बहादुरी के लिए हमेशा याद रखा जाएगा।
वर्तमान में शहीद शेर सिंह के परिवार में उनकी धर्मपत्नी वीना व पुत्र पंकज और पुत्री रश्मि हैं। परिवार, गांव व क्षेत्र के सभी लोगों को शेर सिंह के बलिदान पर गर्व है। ऑपरेशन रक्षक में भारत माता की सीमाओं की रक्षा के लिए दिए गए उनके सर्वोच्च बलिदान को देश हमेशा याद रखेगा।
इस मौके पर शहीद शेर सिंह की धर्मपत्नी वीना व पुत्र पंकज और पुत्री रश्मि एवं एसडीएम पावंटा गुंजीत सिंह चीमा, मशहूर उद्योगपति अरुण गोयल एवं दीपक गोयल के अलावा भूतपूर्व सैनिक संगठन पाँवटा-शिलाई से उपाध्यक्ष स्वर्णजीत, सचिव संतराम चौहान, सह सचिव मोहन चौहान, चमेल नेगी, हरपाल सिंह, अब्दुल वहीद, निर्मल सिंह के अलावा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पुरुवाला से 15 विद्यार्थी के अलावा पंचायत प्रधान सज्जन सिंह व पूर्व प्रधान सुषमा देवी तथा अन्य कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।