औषधीय एवं सुगंधित पौधों पर धौलाकुआं में पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुरू

क्षेत्र की 25 महिलाओं ने लिया हिस्सा, उद्घाटन सत्र के बाद पौधे भी रोपे

 

 

क्षेत्रीय बागवानी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र धौलाकुआं में पर्यावरण दिवस के मौके पर औषधीय एवं सुगंधित पौधों पर पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हुआ, जिसमें अंबोया, पातलियों, बद्रीपुर और आसपास के क्षेत्रों की 25 महिला किसान मौजूद रहीं। जहां दीप प्रज्वलित करने के बाद प्रशिक्षण का उद्घाटन किया गया।

 

इस मौके पर डॉ. अमित बख्शी एसएमएस पांवटा साहिब, डॉ. विशाल सिंह राणा सह निदेशक (एडीआर आरएचआरटीएस धौलाकुआं), डॉ. प्रियंका ठाकुर प्रिंसिपल फ्लोरीकल्चरिस्ट एवं सह प्रशिक्षण समन्वयक, डॉ. संजीव सन्याल प्रशिक्षण सह समन्वयक उद्घाटन सत्र के दौरान उपस्थित रहे। 

 

इस दौरान हर्बल गार्डन में डॉ. संजीव सान्याल ने प्रतिभागियों को औषधीय और सुगंधित पौधों के बारे में जानकारी दी। साथ ही डॉ. विशाल सिंह राणा, डॉ. प्रियंका ठाकुर, डॉ. संजीव सान्याल, डॉ. अमित बख्शी ने विश्व पर्यावरण दिवस पर सभी महिला किसानों के साथ जिन्कगो बिलोबा (जीवाश्म वृक्ष), ऑल स्पाइस, सिंदूर और कपूर पौधे भी रोपे।

क्षेत्रीय बागवानी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र धौलाकुआं में पर्यावरण दिवस मनाया गया। इस मौके पर वैज्ञानिकों, कार्यालय और फील्ड स्टाफ के सदस्यों, पीजी कर रहे छात्रों और राजकीय माध्यमिक विद्यालय धौलाकुआं के बच्चों व शिक्षकों ने मिलकर दिवस मनाया जहां सह निदेशक डाॅ. वीएस राणा ने छात्रों को पर्यावरण बचाने का महत्व समझाया। इस दौरान छात्रों ने पर्यावरण बचाने के लिए अलग-अलग तरह के पोस्टर भी तैयार किए थे।